Che Guevara : एक जिद्दी और ईमानदार कॉमरेड, जिसकी कूटनीति से अमेरिका हो गया था हैरान - CARE OF MEDIA

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Friday, June 14, 2019

Che Guevara : एक जिद्दी और ईमानदार कॉमरेड, जिसकी कूटनीति से अमेरिका हो गया था हैरान


वह बचपन से ही बड़ा जिद्दी था, हौसला ऐसा कि मुश्किलें मौके में तब्दील हो जाती थीं। 14 जून, 1928 को अर्जेंटीना के रोसारियो में एक मध्यमवर्गीय परिवार में जन्मे इस बालक का नाम था अर्नेस्तो चे ग्वेरा (Che Guevara), लेकिन चाहने वाले उसे 'चे' के नाम से बुलाते थे।
'चे' शब्द का अर्थ, अपना या अत्यंत घनिष्ट होता है। पिता आइरिश मूल के थे जबकि मां स्पेन के प्रतिष्ठित घराने की थीं। जन्म के दूसरे साल ही 'चे' को दमा हो गया जिसके बाद, मौत से लुका छिपी का खेल चला... लेकिन इस दिलेर बालक ने अपने जीवट के दम पर दमे को खुद पर हावी नहीं होने दिया। ऐसा लगता है कि छापामार युद्ध का प्रशिक्षण मानो इसी 'खेल' से मिला हो। 

गरीबी और दुर्दशा के खिलाफ संघर्ष

मेडिसिन की पढ़ाई करने के बाद चे ग्वेरा चाहते तो अर्जेटीना की राजधानी ब्यूनस एयर्स के कॉलेज में बतौर डॉक्टर आराम की जिंदगी बसर कर सकते थे। लेकिन, अपने आस पास लोगों की गरीबी और शोषण को देखकर मार्क्‍सवादी क्रांति का रास्‍ता चुना।
दरअसल, उन्होंने अपनी नोर्टन 500 सीसी मोटरसाइकिल पर दक्षिण अमेरिकी देशों की लंबी यात्रा  की थी। इस दौरान उन्होंने लोगों की गरीबी और दुर्दशा को काफी करीब से देखा था। उन्हें यकीन होने लगा कि दक्षिण अमेरिकी महाद्वीप की समस्याओं के निदान के लिए सशस्‍त्र आंदोलन ही एकमात्र रास्‍ता है।

Post Bottom Ad

MAIN MENU