मिक्सर मशीन के नीचे आकर मौत के गाल में समा गया मजदूर।। Raebareli news ।। - CARE OF MEDIA

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Thursday, June 13, 2019

मिक्सर मशीन के नीचे आकर मौत के गाल में समा गया मजदूर।। Raebareli news ।।

शिवाकांत अवस्थी
शिवगढ़,रायबरेली: छत डालकर वापस घर आ रहे मजदूर  की सीमेंट मिक्सर मशीन के नीचे आने से दर्दनाक मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेज दिया है। 
         आपको बता दें कि, जानकारी के मुताबिक शिवगढ़ थाना क्षेत्र के गढ़ी मजरे देहली का रहने वाला 22 वर्षीय गोविंद पुत्र हरिनाम अपने साथियों के साथ बछरावां से बीती देर रात छत डालकर घर वापस जा रहा था। बताते हैं कि, ट्रैक्टर और मिक्सर मशीन पर करीब एक दर्जन से अधिक मजदूर बैठे थे। अहलादगढ़ मोड से होते हुए जैसे ही मिक्सर मशीन शिवगढ़ थाना क्षेत्र के भवानीगढ़ ग्रामसभा के मूर्ति माता रायपुर गांव के पास पहुंची झपकी आने से गोविंद नीचे गिर गया। जिसके आधे अंग को रौदतें हुए मिक्सर मशीन आगे निकल गई। अंधेरा होने के साथ ही अधिकांश मजदूरों के नींद में होने के कारण हादसे की किसी को भनक तक नहीं लगी।
       मिक्सर मशीन के पीछे बाइक से चल रहे ठेकेदार को हादसे की जानकारी हुई तो लोगों में हड़कंप मच गया। घायल गोविंद को आनन-फानन में बाइक पर लात कर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शिवगढ़ पहुंचाया गया। जहां प्राथमिक परीक्षण के पश्चात डाक्टरों ने युवक को मृत घोषित कर दिया। 
      घटना की जानकारी होते हैं परिजनों में कोहराम मच गया। मृतक की पत्नी निशा, मां रामप्यारी, पिता हरिनाम, भाई अरविंद, मुकेश, राहुल सहित परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। शिवगढ़ थाना प्रभारी निरीक्षक अजीत कुमार विद्यार्थी का कहना है कि तहरीर मिली है शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेज दिया गया जांच पड़ताल कर मुकदमा पंजीकृत किया जाएगा।
इंसेट-
 निशाकी सूनी हो गई मांग.....
 गोविंदकी पिछले वर्ष ही निशा के साथ शादी हुई थी। गरीबी के चलते गोविंद मेहनत मजदूरी करके किसी तरह परिवार की जीविका चलाता था। झोपड़ी में रहकर गुजर बसर कर रहा गोविंद गर्मी ,जाड़ा ,बरसात से निजात पाने के लिए दिन-रात मेहनत मजदूरी करके एक छोटा सा आशियाना बनाना चाहता था। किंतु नियत को कुछ और ही मंजूर था। सिलेप डालकर घर वापस आ रहा गोविंद पलक झपकते ही मिक्सर मशीन के नीचे आकर मौत के गाल में समा गया। 1 वर्ष पूर्व बेहकर आयी 20 वर्षीय निशा ने अभी दुनिया भी नहीं देखी थी उससे पूर्व ही पति की मौत से उसकी दुनिया उजड़ गई।
चार भाइयों में सबसे बड़ा था गोविंद
गोविंद चार भाइयों में सबसे बड़ा था जो मेहनत मजदूरी करके पति की जिम्मेदारियों को निभाने के साथ ही परिवार की मदद और छोटे भाइयों का सहयोग करता था। बड़े भाई की मौत से माता पिता एवं छोटे नाबालिक भाइयों पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा है।

Post Bottom Ad

MAIN MENU