Posts

Showing posts from March, 2020

मझगवा गांव में नहीं घुस पाएगा कोरोना प्रधान ने की तगड़ी मोर्चाबंदी

Image
शिवाकांत अवस्थी महराजगंज/रायबरेली: सरकार और शासनादेश का शत-प्रतिशत पालन करते हुए मझगवां ग्राम प्रधान शत्रोहन सोनी ने हमारे संवाददाता को दिए गए बयान में कहा है कि, मझगवा ग्राम पंचायत के सभी ग्राम वासियों को कोरोनावायरस से दूर रखने के लिए व्यापक प्रबंध किए गए हैं। जिसके तहत देश के अन्य भागों से गांव लौटे ग्राम वासियों को प्राथमिक विद्यालय परिसर में क्वॉरेंटाइन किया जाएगा। इसका काम शुरू हो गया है। अभी तक 6 लोगों को यहां रख कर उनके सुबह नाश्ते से लेकर दोपहर और रात के लिए पौष्टिक और संतुलित भोजन की व्यवस्था कर दी गई है।     आपको बता दें कि, ग्राम प्रधान श्री सोनी ने बताया कि, गांव में साफ सफाई के विशेष इंतजाम किए गए हैं, और शासन प्रशासन का सहयोग लेकर ग्राम वासियों को लाकडाउन का शत-प्रतिशत पालन करने का अनुरोध किया जा रहा है, साथ ही गांव में सभी कुओं व नालियों में ब्लीचिंग का छिड़काव किया जा रहा है। ताकि लोगों को संक्रमण से बचाया जा सके। इसके अलावा ग्राम वासियों से निरंतर अपील की जा रही है कि, वह अनावश्यक घर से बाहर ना निकले और बाहर से लौटते लोगों के संपर्क में कम से कम 14 दिन बिल्कुल

लॉक डाउन प्रभावित गरीबों के लिए मसीहा बने भाजपा के यह युवा नेता।। Raebareli news ।।

Image
शिवाकांत अवस्थी ऊंचाहार/रायबरेली:  कोरोनावायरस के कारण लाक डाउन से प्रभावित राहगीरों एवं जरूरतमंदों को भाजपा नेता अतुल सिंह ने आज तीसरे दिन भी 350 लंच पैकेट बटवाए।        आपको बता दें कि, आज लॉक डाउन का सातवाँ दिन है और अभी 14 दिन शेष बचे हुए हैं। लॉक डाउन का सबसे बड़ा असर गरीब तबके के लोगों पर पड़ा है। रायबरेली में कोई गरीब भूखा न सोये इसी को लेकर रायबरेली ऊंचाहार विधानसभा के रहने वाले हैं भाजपा के युवा नेता अतुल सिंह गरीबों तक खाना पहुंचा रहे हैं।       आज लगातार तीसरे दिन ऊंचाहार के जगतपुर ब्लाक के राहगीरों, जरूरतमंदों को युवा नेता दीपू सिंह के हाथों 350 लंच पैकेट वितरण कराया और लॉक डाउन का पालन करने की अपील की।        इस दौरान दीपू सिंह ने कहा कि, अतुल सिंह की सोच है कि, वे हर जरूरतमंद की मदद करें। कोई भी व्यक्ति भूखा ना सोए, साथ में भाजपा नेता शैलेंद्र सिंह, राकेश यादव, अनिल यादव तथा अजय गौतम ने कहा कि, भाई अतुल सिंह गरीबों की सेवा के लिए समर्पित है। गरीबों को किसी भी प्रकार की चिंता करने की आवश्कता नहीं है। अगर किसी गरीब को किसी प्रकार की मदद चाहिए तो वह अपनी बात हम लोगो

कोरोना: इन्होंने अपनी जिम्मेदारियों से फेरा मुंह तो महिला ग्राम प्रधान ने हाथ में उठाया कलछुला।। Raebareli news ।।

Image
शिवाकांत अवस्थी महराजगंज/रायबरेली:  क्षेत्र के पुरासी गांव में कोटेदार की दबंगई के चलते बाहर से मजदूरी करके गांव आने वाले लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जिसके चलते महिला ग्राम प्रधान कृष्णालली ने सभी की जिम्मेदारी अपने कंधों पर उठाकर स्वयं खाना बनाकर खिला रही हैं। जो अपने आप में एक मिसाल है।                                आपको बता दें कि, महराजगंज विकासखंड क्षेत्र के पुरासी गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय में कोरोना महामारी के चलते बाहर मजदूरी करने गए लोगों के वापस लौटने के बाद लगभग 25 मजदूर गांव पहुंच गए हैं। जिनकी रहने व खाने-पीने की समुचित व्यवस्था प्राथमिक विद्यालय पुरासी में की गई है।       वहीं शासन द्वारा जारी किए गए दिशा निर्देश के मुताबिक कोटेदार और विद्यालय के प्रधानाचार्य द्वारा सभी सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी। लेकिन महिला ग्राम प्रधान कृष्णालली ने जब विद्यालय के प्रधानाचार्य संतोष द्विवेदी से बात की तो, उन्होंने कहा कि, वे सिर्फ रसोईयां व बर्तन दे सकते हैं। खाद्यान्न नहीं है। जिसके बाद महिला ग्राम प्रधान आरोप लगाते हुए बताया कि जब उन्होंने कोटेदार

राशन और आवश्यक वस्तुएं देकर कर रहे जरूरतमंदों की मदद

Image
शिवाकांत अवस्थी शिवगढ़/रायबरेली:  कोरोना महामारी को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश में किए गए 21 दिनों के लॉकडाउन के बाद से सबसे ज्यादा दिहाड़ी मजदूर प्रभावित हुए हैं। कुछ तो ऐसे दिहाड़ी मजदूर एवं ठेले खोमचे वाले हैं जिनकी हालत रोज कुआं खोदने और रोज पानी पीने वाली जैसी है, जिनको दो-दो दिन उपवास तक करना पड़ा। क्षेत्र के कई ऐसे भी है जिन्होंने दिल्ली से शिवगढ़ क्षेत्र तक का सफर पैदल तय किया है।        आपको बता दें कि, 21 दिनों के लॉकडाउन के बाद घर से न निकल पाने के कारण कई परिवार भुखमरी की कगार पर पहुंच गए हैं। कोई भूखा ना रहे जिसके लिए शासन प्रशासन पूरी तरह सजग है। रायबरेली की तेजतर्रार जिलाधिकारी सुभ्रा सक्सेना और पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगैन के निर्देश पर ऐसे लोगों को चिन्हित करके जरूरतमंदों को भोजन और राशन पहुंचाने का सराहनीय कार्य किया जा रहा है।       देवदूत बनी रायबरेली पुलिस अपनी जान की परवाह किए बगैर दिन रात सुरक्षा में लगी रहने के साथ ही जरूरतमंदों को राशन और दवाएं पहुंचाने का सराहनीय कार्य कर रही है। वहीं लॉकडाउन प्रभावितों की मदद के लिए समाज से दो तरह

न्यू पब्लिक एकाडमी इ0का0 के प्रधानाचार्य ने की छात्र-छात्राओं एवं अभिभावकों से अपील

Image
शिवाकांत अवस्थी शिवगढ़/रायबरेली:   शिवगढ़ क्षेत्र के न्यू पब्लिक एकाडमी इण्टर कॉलेज भवानी के प्रधानाचार्य अनूप कुमार पाण्डेय ने अभिभावकों, शिक्षकों, शिक्षिकाओं एवं छात्र छात्राओं से अपील करते हुए कहा कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा देश में 21 दिनों का लॉकडाउन किया गया है। यह लॉकडाउन पूर्णतः जनहित में है। आप सबसे अपील है कि, घर में रहें, घर के बाहर बिल्कुल न निकलें। लॉकडाउन का पालन करके देश के जिम्मेदार नागरिक बने। यही समय है सच्ची राष्ट्रभक्ति दिखाने का। यदि आवश्यक कार्य वश बाहर निकलना पड़ता है तो मास्क का प्रयोग करें, या मुंह नाक को किसी कपड़े जैसे रूमाल, अंगौछा , या दुपट्टे से ढककर ही बाहर निकलें। घर वापस लौटने पर सर्वप्रथम हाथ को अच्छी तरह साबुन से धोएं। यदि सेनेटाइजर उपलब्ध है तो हाथ में लगाएं। बार-बार हाथ धोने की आदत डालें।        प्रत्येक व्यक्ति से एक मीटर की दूरी बनाए रखें। अपने हाथ से अपने नाक, मुंह और आंखों को न छुएं। सावधानी, संयम और जागरूकता से ही इस महामारी से लड़ा जा सकता है।      आपको बता दें कि श्री पांडेय ने अपनी अपील में आगे कहा की, दिल्ली मुंबई सहित शहरो

श्री बरखण्डी विद्यापीठ इण्टर कॉलेज शिवगढ़ के प्रधानाचार्य ने की अपील

Image
शिवाकांत अवस्थी शिवगढ़/रायबरेली:  शिवगढ़ क्षेत्र के श्री बरखण्डी विद्यापीठ इण्टर कॉलेज शिवगढ़ के प्रधानाचार्य डॉ0 त्रिदिवेन्द्रनाथ त्रिपाठी ने क्षेत्र के सम्मानित नागरिकों, शिक्षकों एवं छात्र छात्राओं से अपील करते हुए कहा कि 'देश' वैश्विक महामारी का रूप ले चुके कोरोना वायरस 'कोविड-19' की चपेट में है। कोरोना वायरस देश में तेजी से पैर पसार रहा है। इस महामारी से निपटने के लिए देश के प्रधानमंत्री ने सभी देशवासियों से सहयोग की अपील की है। जिसमें सभी देशवासियों का सहयोग अपेक्षित है।        आपको बता दें कि, श्री त्रिपाठी ने कहा की कोरोना वायरस को लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग के द्वारा ही हराया जा सकता है। इस वैश्विक महामारी को मात देने के लिए सभी नागरिक शासन-प्रशासन के दिए गए निर्देशों एवं लॉकडाउन का पालन करें तभी इससे निजात मिल सकती हैं।        श्री त्रिपाठी ने सभी से अपील करते हुए कहा कि, कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए लॉकडाउन पालन करें और घर के अंदर  रहकर कोरोना के विरुद्ध जंग लड़ें। हर आधे घंटे पर कम से कम 20 सेकंड तक अच्छी तरह साबुन से हाथ धुलें। हाथों में समय-स

जौनपुर: महरापुर के प्रधान ने लॉक डाउन प्रभावित गरीबों को वितरित किया राशन

Image
रियाजुल हक  जौनपुर: शहर से सटे गांव महरापुर नजदीक कलिचाबाद मे आज ग्राम प्रधान  एवं भाजपा नेता विक्रम बहादुर सिह चौहान तथा बाघ सिह चौहान ने सैकड़ो जरूरतमंद लोगो मे  आटा दाल चावल एवं राशन की सामग्री वितरित की । देश और दुनिया मे जहा कोरोना वायरस की दहशत तथा लाक डाउन से लोग अपने अपने घरो मे दुबके है वही रोज कमाने- खाने वालो पर खा नें के लाले पड़े हैं लोगों पर आर्थिक संकट के बादल भी मंडराने लगे है। इनके लिए जहा राज्य तथा केन्द्र सरकार भी भरसक मदद की कोशिश कर रही है ,वही तमाम समाजसेवी संस्थाये तथा लोग भी इनकी मदद मे सामने आये है। ऐसा ही पुण्य कार्य आज ग्राम महरापुर के ग्राम प्रधान ने जरूरतमंद लोगो को  राशन का सामान तथा फल एवं सब्जिया वितरित किया है इस बीच शोसल डिस्टेंसिंग का भी पुरा ख़याल रखा गया,उन्होने बताया कि अभयचंद पट्टी,कलिचाबाद,महरापुर तथा आसपास पास के गांव मे भ्रमण कर पहले से ही पात्र लोगो को सूचना दे दी गई थी जिन्हे आज  सामान वितरित किया गया जिससे मुख्य रूप से अरहर की दाल चावल आटा सरसो का तेल एवं नमक आदी था, और आगे भी इस मुश्किल हालात मे ऐसा कार्य जारी रखा जाएगा।इस मौके पर मुख

केवी के छात्र करें ऑनलाइन पढ़ाई-प्राचार्य मनोज कुमार

Image
प्राथमिक स्तर के छात्रों के लिए बनाए गए व्हाट्सएप ग्रुप शिवाकांत अवस्थी शिवगढ़/रायबरेली:  शिवगढ़ केंद्रीय विद्यालय विद्यालय के प्राचार्य मनोज कुमार ने विद्यालय के छात्र-छात्राओं अभिभावकों एवं क्षेत्रवासियों से अपील करते हुए कहा है कि, देश कोरोना रुपी महामारी से गुजर रहा है। जिसके चलते शिक्षण कार्य बाधित है। लॉकडाउन की इस अवधि में सभी छात्र समय का सदुपयोग करते हुए घर बैठे स्मार्टफोन के माध्यम से पढ़ाई करें। प्राथमिक स्तर की कक्षाओं के लिए कक्षा अध्यापक, विषय अध्यापक द्वारा व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से अध्ययनरत छात्र छात्राओं को होमवर्क इत्यादि कार्य दिए जा रहे हैं।       आपको बता दें कि, प्राचार्य मनोज कुमार ने अभिभावकों से यह अपील है कि, आप अपने जीवन के विभिन्न कार्यों को करते हुए अपने बच्चों और परिवार को इतना समय नहीं दे पाते हैं, जितना समय आप इस  समय दे रहे हैं। इस समय आप अपने परिवार के साथ रहे और बच्चों के भविष्य के बारे में उनसे बातें करें। उनके विकास के बारे में जाने और वह किस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं इसका भी आकलन करें।       बच्चों में अच्छे संस्कारों का सृजन करें। प्राचा

'इतिहास संकट का : कोविड 19 के सबक'

Image
स्कन्द शुक्ला चार्ल्स रोज़नबर्ग चिकित्सा-इतिहासकार हैं। उनके अनुसार महामारियों ( सामाजिक तौर पर ) नाटकीय अंदाज़ में तीन चरणों में खुलती हैं। आरम्भिक चरण अत्यधिक मद्धिम होते हैं। लोग स्वयं को समझाते हैं , दिलासा देते हैं। वे अपने आर्थिक हितों की रक्षा में लग जाते हैं। वे बीमारी की तीव्रता और उसके कारण होने वाली मौतों को समझ न पाने के कारण उन पर ध्यान दे नहीं पाते। फिर दूसरा चरण आता है , जब वे रोग को समझने लगते हैं। तब वे उत्तरदायित्व और दोषारोपण करने में जुटते हैं। कारण और वजह गिनाते हैं , ये दोनों तरह की हो सकती हैं। वैज्ञानिक ( मेकैनिस्टिक ) वजहें और नैतिक वजहें भी। उन्हें समझाया जाता है। समझाने पर जनता की प्रतिक्रिया आती है। इसके बाद तीसरा चरण आरम्भ होता है , जब अकुलाहट और नाटकीयता अपने चरम पर पहुँच जाती है और तन्त्र अस्तव्यस्त हो जाता है। सम्यक् सामाजिक प्रतिक्रिया अथवा नये रोगी शरीर न मिल सकने के कारण महामारियाँ अन्ततः बीत जाती हैं। पर वे जिस समाज से होती हुई गुज़रती हैं , उस पर बेतहाशा दबाव बनाती हैं। समाज के वे हिस्से जो अब-तक अदृश्य थे , अब सबको नज़र आने लगते हैं। महामारियाँ

जंगल में चुनाव हुआ और राष्ट्र हित में जानवरों ने बंदर को अपना राजा चुन लिया, जानिए फिर क्या हुआ...

Image
Zaigham Murtaza जंगल में चुनाव हुआ। दाढ़ी वाला मकैक साथी जानवरों को समझाने में कामयाब रहा कि उनके हित सिर्फ बंदर दल के साथ सुरक्षित हैं। शेर मांसाहारी समाज से है और जीत गया तो जानवर ही नहीं जंगल भी बेच डालेगा। राष्ट्र हित में जानवरों ने बंदर को अपना राजा चुन लिया। दिन गुजरते गए। एक दिन जंगल में संकट आया। एक बूढ़ा शेर जंगल में घुस आया था। जानवरों में खौ़फ का आलम था। ऐसे में एक बकरी दौड़ी दौड़ी बंदर राजा के पास आई। बकरी ने बताया कि उसके मेमने की जान ख़तरे में है और राजा को तुरंत मदद के लिए चलना चाहिए। कहां है ये शेर का बच्चा? बंदर राजा ने खुंखारते हुए पूछा। महाराज वो नदी की तरफ गया है, वहां मेरा बच्चा अकेला है। बकरी ने मिमियाते हुए जवाब दिया। चलो, मेरे साथ, में देखता हूं इस दुष्ट को। ये कहते हुए बंदर ने गुलाटी मारी और पेड़ दर पेड़, कुलांचे भरता हुआ नदी किनारे पहुंचा। बकरी भी पीछे पीछे घाट पर पहुंच गई। महाराज वो देखिए शेर, मेरे बच्चे पर घात लगाए बैठा है। बंदर ने इस डाल से उस डाल और उस डाल से इस डाल कुलांचे भरनी शुरू कीं। इस दौरान शेर मेमने के पास पहुंच गया। बकरी ने फिर गुहार

जानिए कोरोना का प्रकोप शांत होने के बाद कैसा होगा हिंदुस्तान

Image
आनन्द जैन  1. 3 महीने बाद जब लॉकआऊट हटेगा, तब 50% - 60% प्रतिशत रेस्टॉरेंट बंद हो चुके होंगे. किराया अफोर्ड नहीं कर पायेंगे, मैनपावर छोड़ कर चला गया होगा और दोबारा शुरू करने के लिये पूंजी नहीं बचेगी. 2. पालकों के पास स्कूल फीस देने के पैसे नहीं होंगे. बड़े स्कूल तो जैसे तैसे सरवाईव कर जायेंगे, मगर छोटे स्कूलों को वर्किंग कैपिटल नहीं मिल पाने से स्कूल बंद होने की स्थिति में आ जायेंगे. वो टीचर्स को सैलेरी देने की स्थिति में नहीं रहेंगे. ऐसे में सरकार को चाहिये कि देश भर के स्कूलों को १०० प्रतिशत RTE फाईनेंसिंग करे. ऐसा नहीं करने की स्थिति में आधे स्कूल बंद हो जायेंगे. 3. एडवर्टाईजिंग बिज़नेस पिछले तीन सालों में लगभग खत्म हो चुका है. प्रिंट एडवर्टाईजिंग बिज़नेस पूरी तरह खत्म हो जायेगा. उसे दोबारा खड़ा होने में कम से कम एक बरस लगेगा, मगर इस बीच में बहुत सारे अखबार बंद हो जायेंगे. 4. लेबर वापस गांव चली गई है. लॉकडाऊन खत्म होने के बाद उद्योगों को शुरू होने में एक महीना लग जायेगा. इसके अलावा कच्चा माल, वर्किंग कैपिटल, मशीनों की ओवरहॉलिंग करते हुए एक महीना और निकल जायेगा. मझोले और छोटे

बुधवार 1 अप्रैल 2020 से गुरुवार 30 अप्रैल 2020 तक का मासिक राशिफल

Image
मेष राशि:     मेष राशि के जातकों का पारिवारिक दृष्टिकोण से यह महीना काफी अच्छा नही बीतेगा। मेष राशि वालो को किसी व्यक्ति की बहुत अच्छी मद्त मिलेगी जिस से कोई आप नई जिंदगी की सुरुआत करोगे। आपके माता पिता परिवार में अगर किसी मांगलिक कार्य को करने की सोच रहे हैं तो आप इस समयम में वह मांगलिक कार्य कर सकते हैं। पुराने मित्रों के साथ भी मेल मिलाप होगा। वृष राशि:     अप्रैल के इस महिने में आपको मानसिक चिंताएं अधिक रह सकती है। कोई व्यक्ति आप को आप का दुश्मन आप को वरवाद करने का पूरा प्रायास करेगा सभी प्रकार से तन मन धन से प्रायास करेगा इस लिए आप सावधान अवश्य रहना। आप अपने किसी काम को मेलजोल के माध्यम से पूरा कर सकते हैं। इस समय आपके साथ असंभावित घटनाएं घट सकती है। आपको इस समय में आय और संतान की चिंता सता सकती है। आप इस समय अधिक भागदौड़ करेंगे। जिसकी वजह से आप शरीर में दर्द और थकान को महसूस कर सकते हैं। मिथुन राशि:     अप्रैल के इस महिने में आपको संतान के भविष्य की चिंता सता सकती है। इस समय में आपकी भागदौड़ अधिक रह सकती है। लेकिन आपके सभी प्रयास सफल होंगे। जिसकी वजह से आपकी सभी परेशानिया

दो वक़्त की रोटी का इंतजाम करने निकले व्यक्ति को पुलिस ने पीटा, जख्म देने वाली रायबरेली पुलिस मरहम भी लगा रही है?

Image
महताब खान  रायबरेली: पुलिस की दो तस्वीरें सामने आ रही हैं, एक तस्वीर में पुलिस गरीबों की मददगार नजर आ रही है तो दूसरी तस्वीर में पुलिस किसी जालिम सितमगर से कम दिखाई नहीं दे रही है. रायबरेली में एक गरीब घर से दो वक़्त की रोटी का इंतजाम करने निकला था जिस पर पुलिस ने बेरहमी से लाठियां बरसाईं जिससे व्यक्ति का पैर फ्रेक्चर हो गया. मिली जानकारी के मुताबिक मिल एरिया थाना क्षेत्र के काशीराम कालोनी खोर 1 निवासी मुश्ताक (50 वर्षीय) निसंतान और बेहद गरीब है. मेहनत मजदूरी कर जीवन यापन करता है. लॉक डाउन का दंश झेल रहा मुश्ताक दो वक़्त की रोटी का इंतजाम करने निकला था. जिस पर मिल एरिया पुलिस ने लॉक डाउन का उल्लंघन करने के कारण लाठियों से पीट पीटकर घायल कर दिया. पुलिस की पिटाई से मुश्ताक के पैर में फ्रेक्चर हो गया है. इन दिनों मुश्ताक भुखमरी के संकट से गुजर रहा है. इलाज से लेकर दो वक़्त की रोटी के लिए मोहताज है. सरकार ने गरीबों की आर्थिक मदद का एलान किया है जो घोषणा के साथ दिन बीत जाने के बाबजूद उस तक सरकारी मदद एवं राहत नहीं पहुंची है, जबकि रायबरेली पुलिस गरीबों को राशन देकर इतिश्री हासिल कर रही

दैनिक पंचांग व राशिफल; बुधवार 1 अप्रैल 2020

Image
पंचांग चैत्र मासे,शुक्ल पक्षे तिथि अष्टमी 27:39:44 नक्षत्र आद्रा 19:28:04 योग शोभन 16:54:34 करण विष्टि भद्र 15:50:15 करण भाव 27:39:44 वार बुधवार माह (अमावस्यांत) चैत्र माह (पूर्णिमांत) चैत्र चन्द्र राशि    मिथुन सूर्य राशि    मीन रितु वसंत आयन उत्तरायण संवत्सर (उत्तर) प्रमादी विक्रम संवत 2077 विक्रम संवत शाका संवत 1942 शाका संवत राशिफल, मेष राशि:    आप पिछले कुछ समय से उपेक्षित महसूस कर रहे हैं लेकिन आज आप पर सबका ध्यान आएगा। कहि वाहर से आज आप घर पहुच जाओगे। धनार्जन नही होगा। आज आप का ध्यान अपने जीवन साथी के तरफ जाएगा। लेकिन जीवन साथी से हानि तथा कष्ट प्राप्त होगा। वृष राशि:    आपको आज खुद का ही चिंतन करना है। आपके जीवन में इस समय सब कुछ सही चल रहा है। फिर भी आपको एक प्रकार की बेचैनी महसूस होगी। अधिक समय घर मे ही निकले गा। किसी विशेष व्यक्ति से ज्ञान की प्राप्ति होगी। मिथुन राशि:     यह तो आप देख ही चुके की आकस्मिक प्रवृति पर आधारित फैसले कई बार सही साबित नही हुए हैं इसीलिए यह जरूरी है, कि आप अपने फैसले तक ही सीमित रहे। किसी करीवी से साहायता प्राप्त होगी।

एक माह से प्राप्त दान की राशि को जैन मंदिर कोरोना के मद्देनजर सरकार को देंगे दान

Image
एसपी मित्तल  निजी क्षेत्र के बृजेश बांगड़ अस्पताल में हुई लापरवाही की वजह से भले ही भीलवाड़ा अब राजस्थान के लिए कोरोनाजोन बन गया हो, लेकिन धर्म के क्षेत्र में भीलवाड़ा से ही एक अच्छी और अनुकरणीय पहल भी हुई है। देश के सुविख्यात जैन संत सुधा सागर महाराज इन दिनों भीलवाड़ा के बिजौलिया में विराजमान हैं। कोरोना वायरस के प्रकोप के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल करते हुए जैन संत प्रतिदिन जनवाणी टीवी चैनल पर अपने अनुयायियों को प्रवचन दे रहे हैं। 30 मार्च की शाम को प्रसारित प्रवचनों में जैन संत सुधासागर महाराज ने कहा कि कोरोना वायरस का मुकाबला सभी देशवासियों को एकजुट होकर करना चाहिए। इसमें जैन समाज को अनुकरणीय पहल करनी चाहिए। सभी जैन मंदिरों में एक माह की दान राशि को एकत्रित कर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा करवाया जाए। जैन संत ने सुझाव दिया कि दीपावली पर्व के माह में जब सबसे ज्यादा राशि प्राप्त होती है। उस माह की राशि दी जाए। इसके लिए जैन संत ने आरके मार्बल के प्रमुख अशोक पाटनी की अध्यक्षता में एक राज्य स्तरीय कमेटी भी बनाई। इस कमेटी में राजेन्द्र गोधा और गणेश राणा आद

तबलीगी जमात के 10 धर्म प्रचारकों की मौत, 24 कोरोना पॉजिटिव, 100 संदिग्ध, 400 आईसोलेशन में तथा 700 निगरानी में

Image
एसपी मित्तल  दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में हुई तबलीगी जमात की मीटिंग में शामिल हुए धर्म प्रचारकों में से अब तक 10 से भी ज्यादा की मौत हो गई है। 31 मार्च को प्राप्त आंकड़ों के अनुसार मीटिंग में शामिल हुए लोगों में से ही 24 को कोरोना पॉजिटिव हो गया है, जबकि 100 धर्मप्रचारकों को संदिग्ध मान कर दिल्ली के अस्पतालों में रखा गया है। करीब 400 धर्मप्रचारकों को आईसोलेशन वार्ड में सुरक्षित रखा गया है। इसी प्रकार करीब 700 लोगों की चौबीस घंटे निगरानी की जा रही है। दिल्ली के मीटिंग में भाग लेने के बाद ऐसे धर्मप्रचारक यूपी के प्रमुख मुस्लिम शिक्षण केन्द्र देवबंद से लेकर देशभर में चले गए हैं। तबलीगी जमात की मीटिंग दिल्ल्ली के निजामुद्दीन क्षेत्र में गत दो माह से चल रही थी। मीटिंग में जमात के प्रतिनिधियों को प्रदेशवार बुलाया जा रहा था। मीटिंग से भाग लेकर जो धर्मप्रचारक लौटें हैं, उन्हें अब देवबंद से लेकर देशभर में खलबल मचा दी है। तबलीगी जमात की गलती को कितने धर्मप्रचारक भुगतेंगे यह तो आने वाले दिनों में पता चलेगा, लेकिन सवाल उठता है कि देश की राजधानी दिल्ली में जब ऐसे हालात हैं तो फिर देशभर में

कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टरों और चिकित्सा कर्मियों को भी कोरोना उन्मूलन वाली दवाई दी जाएगी

Image
एसपी मित्तल  31 मार्च को राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने कहा है कि कोरोना पॉजिटिव और संदिग्ध मरीजों का अस्पतालों में इलाज करने वाले चिकित्सकों एवं चिकित्सा कर्मियों को भी वो ही दवा दी जाएगी, जो कोरोना वायरस प्रभावित मरीजों को दी जा रही है। रघु शर्मा ने इस बात पर संतोष जताया कि राजस्थान में अब तब 14 कोरोना पॉजिटिव मरीज ठीक हो गए हैं। जयुपर के एसएमएस अस्पताल के चिकित्सकों ने पॉजिटिव मरीजों को जो दवा दी उसी से मरीज ठीक हुए हैं। हमारी दवाईयों को केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी मान्यता देदी है। यही वजह है कि अब ऐसी दवाईयां सभी चिकित्सा कर्मियों को दी जाएंगी। ताकि कोई भी चिकित्सा कर्मी संक्रमित नहीं हो। जब कोरोना पॉजिटिव मरीज इन दवाइयों से ठीक हो सकते हैं, तब चिकित्सा कर्मियों के लिए ऐसी दवाइयां जरूरी हो जाती हैं। रघु शर्मा ने कहा कि हमारे चिकित्साकर्मी जोखिम लेकर कोरोना जैसी वैश्विक बीमारी के मरीजों का इलाज कर रहे हैं। राजस्थान के लिए यह बड़ी उपलब्धि है कि कोरोना पॉजिटिव मरीजों को सकुशल उनके घरों पर भेजा जा रहा है। उन्होंने बताया कि 31 मार्च तक प्रदेश में 87

अंबेडकरनगर: 35 लोगों को प्राथमिक विद्यालय में 15 दिनों के लिए आइसोलेशन में रखा गया, तस्वीरों में देखें कैसे रह रहे हैं ये लोग

Image
गणेश मौर्य अंबेडकरनगर: ग्राम पंचायत कजपुरा में स्थित प्राथमिक विद्यालय पातालतारा पर कोरोना वायरस से बचाव हेतु विभिन्न प्रदेशों से आए हुए लोगों की उचित व्यवस्था ग्राम प्रधान द्वारा करवाई गई। दिल्ली, गाजियाबाद, अलीगढ़, पंजाब, सोनीपत, मुम्बई, आदि से लौटे लगभग 35 लोगों का स्वास्थ्य विभाग की टीम  द्वारा जांच की गई एवं कारोना के रोकथाम एवं बचाव के लिए लोगों को जागरूक किया गया। साफ सफाई पर विशेष ध्यान लोगों के संपर्क में ज्यादा ना रहे इस तरह की सलाह दी गई एवं उन सभी लोगों को 15 दिन के लिए द्वारा प्राथमिक विद्यालय पातालतारा पर आइसोलेशन फैसिलिटीज की व्यवस्था की गई है। इस दौरान उनके भोजन खाने, पीने, रहने ,नहाने ,शौचालय आदि की व्यवस्था ग्राम प्रधान ने की है ग्राम प्रधान संजय राजभर ने बताया कि 21 दिन भारत लाक डाउन के बाद भारत की स्थिति तो खराब हो गई है मगर इस रोग से लड़ने के लिए भारत सरकार ने अच्छी पहल उठाई है क्योंकि इटली, अमेरिका, चीन, जैसे देशों ने जब इस रोग से लड़ने में असक्षम हो गए तो भारत की जनसंख्या 135 करोड़ है फिर देश नहीं संभल पाएगा, इसीलिए सभी को सरकार के दिए हुए निर्द

मोहम्मद फजल की 17 वर्षीय बहन भी कोरोना पॉजिटिव निकली, तबलीगी जमात से जुड़े लोगों की अजमेर में भी तलाश जारी

Image
एसपी मित्तल  31 मार्च को अजमेर के मोहम्मद फजल की 17 वर्षीय बहन का कोरोना टेस्ट भी पॉजिटिव आ गया है। अब फजल के परिवार के पांचों सदस्य कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। फजल 22 मार्च को पंजाब और हरियाणा के विभिन्न शहरों में घूम कर अजमेर में खारी कुई स्थित अपने घर लौटा था। फजल का परिवार खारी कुई स्थित मस्जिद परिसर में ही रहता है। फजल के परिवार के सदस्यों के सम्पर्क में आए लोगों का अब दायरा बढ़ गया है। जानकारी के मुताबिक करीब आठ लोगों को संदिग्ध मानते हुए अस्पताल के आईसोलेशन वार्ड में रखा गया है, जबकि करीब 26 व्यक्तियों पर निगरानी रखी जा रही है। फजल की माताजी के क्षेत्र के एक बैंक में भी जाने की जानकारी के बाद संबंधित बैंक को भी सेनेटाइज किया जा रहा है। सम्पर्क में आए बैंक कर्मियों को घर पर भी आईसोलेट किया गया है। चूंकि 23 वर्षीय फजल कोरोना संक्रमित हुआ, इसलिए परिवार के सभी सदस्य तथा सदस्यों के सम्पर्क में आने वाले भी मुसीबत में पड़ गए हैं। फजल कोरोना संक्रमित है इसकी जानकारी 28 मार्च को उजागर हुई, तभी से खारी कुई की मस्जिद के एक किलोमीटर दायर में कफ्र्यू लगाकर सघन जांच पड़ताल का काम चल रहा

12 मार्च तक विदेश से बलरामपुर आये व्यक्ति अपनी सूचना कन्ट्रोल रूम में कराये उपलब्ध- जिला मजिस्ट्रेट

Image
इकबाल खान बलरामपुर। जिला मजिस्ट्रेट, बलरामपुर कृष्णा करुणेश ने सूचित किया है कि नोवेल कोरोना वायरस से रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु यह आदेश जारी किया जाता है कि  दिनांक 12 मार्च, 2020 के बाद जो भी व्यक्ति विदेश से आये है, वे इसकी सूचना 24 घण्टे के अन्दर कलेक्ट्रेट में स्थापित कन्ट्रोलरूम नम्बर-05263-232046, 05263-236250 या सीएमओ कार्यालय में स्थापित कन्ट्रोलरूम नम्बर-7880831068, 7081224641 पर उपलब्ध करा दें। यदि विदेश से आये किसी व्यक्ति द्वारा अपनी सूचना नहीं दी जाती है, और इसके बाद कोरोना के लक्षण पाए जाते है या अन्य व्यक्ति संक्रमण के शिकार होते है, तो उनके खिलाफ विधिक कार्यावाही की जायेगी।

अम्बेडकर नगर डीएम ने अफसरों के कसे पेच, कहा कोई भी भूखा नहीं रहना चाहिए?

Image
गणेश मौर्य  अंबेडकरनगर: कोरोना वायरस  (covid - 19)  के  दृष्टिगत जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र व पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी ने किछौछा दरगाह के  इंतजामियां कमेटी के लोगों के साथ  बैठक किए बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने  कहा कि शासन के निर्देश के क्रम में 14 अप्रैल तक लॉक डाउन के दौरान कोई भी व्यक्ति को बाहर नहीं निकलना है इसलिए जो लोग दरगाह किछौछा में आए हैं उन्हे किसी भी सूरत में जनपद से बाहर नहीं निकलने दिया जाएगा, उन्होंने  कमेटी के लोगों से कहा कि जो लगभग 900, लोग  यहां पर रुके हुए हैं उन्हें गेस्ट हाउस से बाहर ना निकलने दिया जाए। इनके खाने पीने का समस्त बंदोबस्त जिला प्रशासन की जिम्मेदारी है साथी साथ कमेटी के लोग भी जिला प्रशासन का सहयोग करते रहे। इस दौरान जिलाधिकारी ने सीओ किछौछा को निर्देशित किया कि 20 कुंटल  चावल एवं 20  टीन सरसों का तेल तत्काल प्रभाव से कमेटी को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंl उन्होंने कमेटी के लोगों को पूर्ण भरोसा दिलाया कि इस दौरान किसी भी व्यक्ति को खाने पीने के लिए कोई दिक्कत नहीं होने दी जाएगी।

लॉक डाउन प्रभावित गरीबों के लिए मसीहा बनी रायबरेली पुलिस

Image
महताब खान  रायबरेली: आज लॉक डाउन का सातवाँ दिन है और अभी 14 दिन शेष बचे हुए हैं. लॉक डाउन का सबसे बड़ा असर गरीब तबके के लोगों पर पड़ा है. रायबरेली में कोई गरीब भूखा न सोये इसी को लेकर रायबरेली पुलिस गरीबों तक राशन पहुंचा रही है. आज सदर कोतवाली थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले महानंदपुर अहिया रायपुर, नया पुरवा सहित अन्य जगहों पर अपर पुलिस अधीक्षक गोपीनाथ सोनी, प्रभारी निरीक्षक नगर कोतवाली अतुल कुमार सिंह ने गरीबों को राशन उपलब्ध कराया और लॉक डाउन का पालन करने की अपील की. इस दौरान अपर पुलिस अधीक्षक गोपीनाथ सोनी ने कहा कि रायबरेली पुलिस गरीबों की सेवा में समर्पित है. गरीबों को किसी भी प्रकार की चिंता करने की आवश्कता नहीं है. अगर किसी गरीब को रायबरेली पुलिस से किसी प्रकार की मदद चाहिए तो वह डायल 112 नंबर डायल कर अपनी समस्या बता सकता है.

अंबेडकरनगर: लॉक डाउन प्रभावित लोगों की मदद के लिए आगे आये ये लोग

Image
गणेश मौर्य अंबेडकरनगर: 31 मार्च मंगलवार को अकबरपुर शहर के शाहजहांपुर में गरीब और असहाय लोगों को  सैकड़ों की तादाद में भोजन कराया गया। देश में फैली भीषण महामारी कोरोना वायरस के प्रकोप से देश को लाक डाउन किया गया। सभी कामकाज पूरी तरह से ठप है रोज कमा कर खाने वाले लोग परेशान हैं कई घरों में रोटी नसीब नहीं हो रही है। अपने पेट को भरने के लिए लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। जिसके चलते शहजादपुर के शाहजहांपुर में रमजान अली, साहिल मिर्जा, अब्दुल कादिर, मशहूर भाई, शाहिद, सरीफ, जग्गू, नियाज, टीपू, शिवा टंडन, सद्दाब मीका खान आजम दानिश नसीम सभी के सहयोग से गरीबों को भोजन कराया गया जिसमें अपर पुलिस अधीक्षक अवनीश कुमार सिंह" ने अपने हाथों से बच्चों को भोजन दिया और 112 नंबर पुलिस के जवानों द्वारा भी जरूरतमंदों को लंच पैकेट गांव गांव वितरण करने के लिए बोला गया। दूसरी तरफ बीजेपी नेता द्वारा लगातार गरीबों को भोजन का कार्य जारी हैं। भारतीय जनता पार्टी के नेता डॉ. रजनीश सिंह ने लाक डाउन के बाद से लगातार जरूरतमंदों को भोजन खिलाने का सिलसिला जारी रखे हैं गांव से शहर तक शहर से गांव तक

ये बिका हुआ मीडिया देश का जितना बड़ा दुश्मन है न उतना बड़ा कोई नही है? अब मीडिया फुल फॉर्म में आ गया है, उसे अपना टारगेट मिल चुका है?

Image
गिरीश मालवीय  अब मीडिया फुल फॉर्म में आ गया है, उसे अपना टारगेट मिल चुका है .......संभावित शिकार को देख कर भेड़िये की आँखों मे जो चमक आ जाती है वही चमक कल शाम से न्यूज़ एंकर्स की आँखों में देखी जा रही है......... मीडिया में  निज़ामुद्दीन दिल्ली में तबलीगी जमात के मरकज ( धर्मशाला ) में मिले 1000 देशी विदेशी मुस्लिमो को कोरोना के संदिग्ध पेशेंट बताया जा रहा है, कल शाम से ही मीडिया अपना नैरेटिव सेट करने में लगा है....... सोशल मीडिया में फेसबुक whatsapp आदि पर मुस्लिम इलाकों के वीडियो खूब फैलाए जा रहे है ताकि कुछ ही दिनों बाद जो, लॉक डाउन से फैली अव्यवस्था से असंतोष उपज रहा है  उसकी परिणीति जो हिंसा में होती स्पष्ट दिख रही है उसके संभावित आरोपी अभी से तय कर दिये जाए ...... घर मे बैठे हुए आदमी के पास सूचना का कोई अन्य सोर्स नही है, वैसे भी उसकी बुद्धि को पहले हर लिया गया है.....ऐसी स्थिति में उसे बरगलाना बहुत आसान है.......... खेल जारी है ...... मुझे याद है कि कुछ दिनों पहले जब सबसे पहले कोरोना का हल्ला मचाया गया तो बार बार इटली का नाम लिया गया था, इटली का नाम क्यो इतना हाइलाइट किया ग

आख़िरकार मीडिया को वह कामयाबी मिल ही गई जिसकी उसे बीते सप्ताह से तलाश थी, कोरोना से ज्यादा तबाही भारतीय मीडिया मचाएगा?

Image
वसीम अकरम त्यागी  आख़िरकार भारतीय मीडिया को वह कामयाबी मिल ही गई जिसकी उसे बीते सप्ताह से तलाश थी। अब कोरोना का ठीकरा 'निज़ामुद्दीन' पर फोड़ा जा रहा है। मीडिया सवाल नहीं उठाएगा, बल्कि ज़िम्मेदारी तय करेगा, कोरोना का ठीकरा फोड़ने के लिए वही सर मिल गया जिस पर किसी भी तरह का इलजाम लगाना 'राष्ट्रभक्ती' माना जाता है। अब यह सवाल नहीं होगा निज़ामुद्दीन मरकज़ ने तो 25 मार्च को ही प्रशासन को पत्र लिखकर बताया था कि मरकज से 1500 लोगों को भेजा जा चुका है मगर करीब 1000 लोग अभी भी वहां फंसे हैं, जिसके लिए वाहन पास जारी किए जाएं, साथ वाहनों की सूची भी लगाई गई थी मगर प्रशासन ने वाहन पास जारी नहीं किए। लेकिन इन सवालों से मतलब ही किसे है? जब मीडिया ने क़सम खाई हो कि मुसलमानों को ही इस देश की सबसे बड़ी समस्या साबित करना है तब तार्किता से उठाए गए जायज सवाल भी अपने मायने खो देते हैं। बीती शाम ख़बर आई थी कि मरकज़ पर मुक़दमा दर्ज किया गया है। अब ज़रा गर्दन घुमाईए, और दो दिन पहले तक आनंद विहार बस अड्डे की तस्वीरों को देखिए हजारों की संख्या में मौजूद मजदूर दिल्ली से पलायन करने के लिए बसो

कोरोना: इस विद्यालय की आपसे अपील।। Raebareli news ।।

Image
शिवाकांत अवस्थी महराजगंज/रायबरेली: क्षेत्र के न्यू स्टैन्डर्ड पब्लिक स्कूल सलेथू ने बच्चों सहित आप लोगों से अपील करते हुए कहा है कि, कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुए शासन द्वारा देश को लाकडाउन किया गया है। इसका मुख्य उद्देश्य आप सभी के साथ आपके माता पिता एवं पूरी जनता को इस वैश्विक महामारी से बचाना है।      विद्यालय द्वारा जारी किए गए एक पत्र के माध्यम से अपील में आगे कहा गया है कि, आप सब अपने घरों में रहे, सरकार और शासनादेश का शत-प्रतिशत पालन करें। यह आपकी सुरक्षा के लिए है।     विद्यालय की तरफ से जारी उस पत्र में यह भी कहा गया है कि, घर से बाहर निकलते ही संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। जिसका सिर्फ एक ही उपाय है कि, आप सब घर पर ही रहे। विद्यालय परिवार ने अनुरोध किया है, बच्चों को किसी भी हाल में बाहर न निकलने दें, और बच्चों के हाथ साबुन, सैनिटाइजर से घुलते रहे। बाहरी लोगों के संपर्क में कतई ना रहे, अपने परिवार के साथ घर पर ही रहे। घर पर ही अभिभावक बच्चों से पोस्टर, निबंध एवं अन्य प्रतियोगिता करवाएं तथा विद्यालय प्रधानाचार्य को इलेक्ट्रॉनिक साधनों से माध्यम से प्रतियोगिता की कापी प्रति

लिखकर रख लीजिए लोग कोरोना से कहीं ज्यादा लॉक डाउन से उपजी परिस्थितियों से मरने वाले हैं?

Image
गिरीश मालवीय  इस सप्ताह के आखिर तक भयावह समाचार मिलने शुरू हो जाएंगे, नही मैं कोरोना की बात नही कर रहा हूँ उससे जो होना है वो तो होगा ही............ लेकिन इस लॉक डाउन से देश की सप्लाई चेन तितर बितर पड़ गयी है वो हमें  बहुत बड़ा नुकसान पुहचाने जा रही है,....... अगर मोदी अपने संबोधन में सिर्फ इतना सी बात कह देते कि लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करने वाले वाहनों को नहीं रोका जाए तो एक बार फिर भी परिस्थितिया संभल सकती थी लेकिन अब यह कंट्रोल से बाहर हो गयी है!......... देश के हाइवे देश की लाइफ लाइन होती है यह बात सभी को पता होती है सिवाए मोदी सरकार के..... बिना पूर्व तैयारी और सोचे समझे घोषित किए गए लॉक डाउन को हाइवे पर पुलसिया डंडे के जोर से इम्प्लीमेंट किया गया ......लगभग सभी ट्रकों को जहां थे वही रोक दिया गया,  हाइवे पर हर तरह की खाने पीने की दुकानें बंद करा दी गई लॉक डाउन ने भारत की चारों दिशाओं, राज्यों, शहरों, जिलों और गांवो तक दिन-रात खाने-पीने के जरूरी सामान से लेकर तमाम आवश्यक साजो-सामान की ढुलाई में जुटे ट्रांसपोर्ट उद्योग को खत्म सा कर दिया ...... देश में करी

बीस साल लंबा आइसोलेशन !

Image
ध्रुव गुप्त  वायरसजन्य रोगों के कारण लोगों को आइसोलेशन में भेजे जाने के चर्चे इन दिनों आम है। इतिहास गवाह है कि प्रेमजन्य रोगों की वज़ह से लोगों के इससे भी लंबे आइसोलेशन में भेजा जाता रहा है। प्रेम के कारण सबसे लंबा आइसोलेशन झेलने वाली शख्सियतों में एक थी मुगल सम्राट औरंगजेब की बड़ी बेटी जेबुन्निसा। अपने चाचा दारा शिकोह से प्रभावित जेबुन्निसा ने बचपन से अपना ध्यान फारसी  और सूफ़ी साहित्य के अध्ययन में लगाया था। किशोरावस्था तक आते-आते अपनी भावनाओं को वह ग़ज़लों और रूबाइयों में ढालने लगी। पिता के कठोर अनुशासन की वज़ह से दरबार में अदबी महफ़िलों की गुंजाईश नही थी तो अपना परिचय छुपाकर वह मख्फी नाम से शहर में आयोजित होने वाले मुशायरों में शिरक़त करने लगी। रूमानी शायरी और सुरीली आवाज के कारण उसकी लोकप्रियता बढ़ने लगी। इन्हीं मुशायरों के दौरान युवा शायर अकील खां रज़ी से उसका परिचय हुआ जो बहुत जल्दी मुहब्बत में बदल गया। उन दोनों की मुशायरों से अलग भी व्यक्तिगत मुलाक़ातों की ख़बर जब औरंगज़ेब तक पहुंची तो उसे अपनी बेटी का रूमान बिल्कुल पसंद नहीं आया। मुगल सल्तनत वैसे भी अपनी बेटियों के प्रति ज्यादा रूढ़ि

यूपी की 20 करोड़ आबादी के लिए मौजूद 619 वेंटिलेटर में से 33 पूरी तरह से ख़राब हैं, आखिर कैसे होगा कोरोना कंट्रोल?

Image
अमन पठान  लखनऊ: उत्तर प्रदेश की आबादी 20 से 21 है. इस आबादी के उच्च उपचार के लिए विभिन्न अस्पतालों में 619 वेंटिलेटर हैं इनमें से 33 पूरी तरह से ख़राब हैं. कोरोना के उपचार के लिए सबसे ज्यादा आवश्कता वेंटिलेटर की होगी, अगर ये महामारी फैलती है तो बदहाल स्वास्थ्य सेवा लोगों की मौत का कारण बनेगी. आज़मगढ़ के दीदारगंज के बसपा विधायक सुखदेव राजभर ने पिछले साल यूपी विधानसभा में वेंटिलेटर को लेकर सवाल किया था कि प्रदेश में कितने वेंटिलेटर हैं, कितने चालू हैं और कितने ख़राब हैं। आज की नज़र से देखें तो यह विधायक एक साल पहले सबसे ज़रूरी सवाल कर रहा था। इसके जवाब में चिकित्सा शिक्षा मंत्री लिखित जवाब देते हैं। कहते हैं कि राज्य के आठ बड़े मेडिकल संस्थानों मे 619 वेंटिलेटर हैं और इनमें से 33 पूरी तरह से ख़राब है। यह राज्य स्तर का आँकड़ा तो नहीं है लेकिन इससे अंदाज़ा मिलता है। यूपी की बीस करोड़ से अधिक की आबादी है। काश इन सब प्रश्नों पर बहस होती तो आज ये हालत न होती लेकिन राजनीति और मीडिया को हिन्दू मुसलमान में सबको पीएचडी करनी थी।

भारत में कोरोना मरीज़ कम हैं या भारत टेस्ट ही नहीं कर पा रहा है?

Image
रवीश कुमार  29 फरवरी को भारत में कोरोना संक्रमण के 3 मामले थे। 30 मार्च तक यह संख्या 1,251 हो गई। 30 मार्च को 227 नए मामले सामने आए। अभी तक 24 घंटे के भीतर इतनी संख्या कभी नहीं बढ़ी थी। क्या भारत में कोरोना का संक्रमण कम हुआ है या भारत टेस्ट कम कर रहा है? क्यों कम टेस्ट कर रहा है? क्या भारत के पास टेस्ट किट नहीं हैं? संक्रमण के बारे में जानने का यही तरीका है कि टेस्ट हो जाए। जांच रिपोर्ट आ जाए। भारत ने 6 मार्च तक 3404 टेस्ट किए थे। 30 मार्च तक भारत ने 38,442 टेस्ट ही किए। यानि 24 दिनों में भी भारत एक लाख टेस्ट नहीं कर सका। सवाल उठ रहा है कि क्या भारत को इस वक्त तक पता भी है कि कोरोना किस हद तक फैल चुका है? क्या कम टेस्ट करके इसका जवाब हासिल किया जा सकता है? यह कोई जवाब नहीं है। बहाना है। इतना कम टेस्ट दुनिया को कोई भी सक्षम देश नहीं कर रहा है। 16 मार्च को भारतीय चिकित्सा शोध परिषद (ICMR) के प्रमुख बलराम भार्गव ने कहा था कि भारत एक दिन में 10,000 टेस्ट कर सकता है। 24 मार्च को भार्गव ने कहा कि 12000 सैंपल टेस्ट कर सकता है। अगर ऐसा था तो भारत अभी तक हर रोज़ 1500 टेस्ट भी क्यों नही

कोरोना वायरस से बचाव के लिए ग्रामीणों ने बाहरी लोगों का गाँव में प्रवेश किया वर्जित, चस्पा किया नोटिस

Image
अयोध्या- लॉकडाउन का पालन करना कोई  ग्रामसभा चितौरा  पूरे मोहन गांव के ग्रामीणों से सीखे । ग्राम वासियो ने गांव के बाहर बैरियर लगाकर रास्ता अवरुद्ध कर दिया है और नोटिस लगा दिया है कि प्रधानमंत्री जी के निर्देशानुसार  ग्राम सभा चितौरा पूरे मोहन गांव में अनावश्यक प्रवेश वर्जित है। नोटिस में यह भी लिखा गया है कि  शासन प्रसाशन ,मेडिकल  हेतु कोई आपत्ति नही है गांव में प्रवेश कर सकते है  रास्ता खोल दिया जाएगा।हिदायत भी दी गयी है कि अनावश्यक प्रवेश पर दंडित किया जाएगा।आज्ञा से समस्त ग्रामवासी। ऐसे लोग जो लॉक डाउन का उलंघन कर अकारण ही घर से बाहर निकल रहे है शासन प्रशासन के बार बार कहने के बाद भी असर नही पड़ रहा उन्हें पूरे मोहन गांव के वासियो से सीख लेनी चाहिए जिससे खुद सुरक्षित रहेंगे ही दूसरों को भी सुरक्षित रखने में सहयोग देंगे। 

रायबरेली: घर की दीवार गिराने को लेकर दो पक्षों में हुई मारपीट, एक महिला हुई गंभीर रूप से घायल

Image
महताब खान  रायबरेली: भदोखर थाना क्षेत्र के ग्राम सैदनपुर पुराने मकान की दीवार गिराने को लेकर दो पक्षों में हुई कहासुनी खुनी संघर्ष में बदल गई. फौजदारी की इस घटना में एक महिला गंभीर रूप से घायल हुई है. महिला को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. भदोखर थाना क्षेत्र के ग्राम सैदनपुर निवासी कृष्णा देवी ने अपने पुराने मकान की दीवार गिराने का आरोप रिश्तेदार चंदन सिंह व रामभजन सिंह पर लगाया है। पीड़िता का आरोप है जब उसने विरोध किया तो उसके रिश्तेदारों ने उसे लाठी डंडों से जमकर पीट दिया और मौके से फरार हो गये जिससे कृष्णा देवी को गंभीर चोटें आईं हैं। इसकी सूचना जब पुलिस को दी गई तो मौके पर पहुंची पुलिस ने पीड़िता को सीएचसी उतरपारा पहुंचाया जहां डाक्टरों ने महिला की हालत नाजुक देखते हुए उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया वहीं पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश मे जुट गई है। वहीं जब जिला अस्पताल मे तैनात डाक्टर संतोष सिंह से बात की गई तो डाक्टर ने बताया कि कृष्णा देवी नामक एक महिला को भर्ती कराया गया है। जिसके सर पर चोट लगी है। उसे भर्ती कर लिया गया है। और  उसका उपचार किया ज