बच्चों को भूख से तड़पता देख जिंदा रिक्शा चालक हो गया मुर्दा


बिहार में कोरोना का खतरा कम होने का नाम नहीं ले रहा है। इसी बीच भावुक कर देने वाली खबर देखने को मिली जहां परिवार की भूख मिटाने के लिए एक जिंदा रिक्शाचालक  को कफन ओढ़ बना मुर्दा बनना पड़ा।
दरअसल लॉक डाउन में रिक्शे की सवारी नहीं मिलने के कारण घर में अनाज का एक दाना तक नहीं था। बच्चों को भूख से बिखलते देख मजबूरी में रिक्शाचालक को यह तरकीब अपनानी पड़ी। उसने शरीर पर कफन ओढ़ कर माला रखी और अगरबत्ती जलाई। फिर डिस टैंक रोड के किनारे लेट गया।
जो भी राहगीर आते- जाते थे, उस पर रूप में पैसे रख देते थे। इस तरह उसे कुछ पैसे मिल गए। उसने बताया कि पहले लॉक डाउन में कुछ मदद मिल जाती थी लेकिन अब तो कोई मदद भी नहीं मिल रही। लिहाजा मजबूरी में जिंदा रहते हुए भी मुर्दा बनना पड़ रहा है। 

Post a Comment

0 Comments