प्राइवेट पार्ट में मां डाल देती है मिर्च, भीख नहीं मांगने पर मिलती है यातनाएं


नागौर। राजस्थान के कुचामन सिटी में चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां चाइल्ड हेल्प लाइन 1098 की टीम की ओर से जब बच्चों को दस्तयाब करने के बाद इस पूरे मामले का खुलासा हुआ है। चाइल्ड हेल्प लाइन टीम में शामिल बबीता ने बताया कि 1098 हेल्पलाइन पर शिकायत मिली कि कुचामन सिटी में बच्चों से भिक्षावृति करवाई जा रही है।

इस शिकायत के बाद नागौर में चाईल्ड हेल्प लाईन से जुड़ी ग्रीन वैल चिल्ड्रन सोसायटी की नागौर की टीम ने इस शिकायत का सत्यापन किया। सत्यापन में शिकायत सही पाए जाने पर कुचामन थाना पुलिस को साथ लेकर जब टीम कुचामन सिटी के पार्क पहुंची, तो भिक्षा मांग रही चार लड़कियों व एक लड़के को पकड़ गया। इसके बाद इन बच्चों को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश करने के लिए नागौर लाया गया है।
जब इन बच्चों से पूछताछ की गई, तो खुलासा हुआ है कि इनको इनके माता-पिता ने ही भिक्षावृति में धकेला है। मिली जानकारी के अनुसार टीम को जो दो बच्चे मिलें, उसमें दो बच्चे भाई बहन होने के अलावा अन्य बच्चे भी शामिल थे। बच्चों ने बताया कि भीख ना ले जाने पर खुद उनकी मां उन पर अत्याचार करती है। उनकी आंखो और प्राईवेट पार्ट में मिर्ची तक डाल दी जाती है।

चाइल्ड हेल्पलाइन की मेंबर ने बताया कि जब मासूम बच्चों से तसल्ली से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उनकी मां उनकी आंखो और प्राईवेट पार्ट में मिर्ची डालने के काम तब करती है कि जब वो कम भीख लेकर जाते हैं। चाइल्ड हेल्पलाइन की मेंबर का कहना था कि भीख मंगवाने वालों अशिक्षा के चलते यह समझ नहीं पाते हैं कि वो कितना बड़ा अन्याय कर रहे हैं, जो कानूनी रूप से भी गलत है। 

Post a Comment

0 Comments