56 इंच में भरी गई हवा पंक्चर हो चुकी है और भारत घिर चुका है?


Soumitra Roy
भारत ने पश्चिम एशिया में सामरिक और कूटनीतिक रूप से एक बड़े महत्वपूर्ण देश ईरान को खो दिया है। मामला है चाबहार बंदरगाह के लिए इंफ़्रा प्रोजेक्ट का। इसमें भारतीय रेल को 628 किमी रेल लाइन बिछानी थी। यह रेल परियोजना चाबहार बंदरगाह से जहेदान के बीच बनाई जानी है। इस रेलवे लाइन को अफगानिस्‍तान के जरांज सीमा तक बढ़ाया जाना है। इसके लिए ईरान, भारत और अफगानिस्‍तान के बीच त्रिपक्षीय समझौता हुआ था।
2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ईरान यात्रा के दौरान चाबहार समझौते पर हस्‍ताक्षर हुआ था। पूरी परियोजना पर करीब 1.6 अरब डॉलर का निवेश होना था। लेकिन अमेरिकी प्रतिबंधों के डर से भारत ने रेल परियोजना पर काम शुरू नहीं किया।
अब ईरान ने कहा है क‍ि वह बिना भारत की मदद के ही इस परियोजना पर आगे बढ़ेगा। मोदी पाकिस्तान को अलग-थलग करना चाहते थे, खुद ही अलग कर दिए गए।
चीन ने मौके को भुनाते हुए ईरान के साथ समझौता कर लिया। चीन ईरान से बेहद सस्‍ती दरों पर तेल खरीदेगा, वहीं इसके बदले में पेइचिंग ईरान में 400 अरब डॉलर का निवेश करने जा रहा है।
वह ईरान की सुरक्षा और घातक आधुनिक हथियार देने में भी मदद करेगा। न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक ईरान और चीन के बीच 25 साल के रणनीतिक समझौते पर बातचीत पूरी हो गई है। 56 इंच में भरी गई हवा पंक्चर हो चुकी है। भारत घिर चुका है।

Comments

Popular posts from this blog

Bollywood Celebrities Phone Numbers | Actors, Actresses, Directors Personal Mobile Numbers & Whatsapp Numbers

जौनपुर: मुंगराबादशाहपुर के BJP चेयरमैन ने युवती के साथ कई महीने तक किया बलात्कार, देखें वायरल वीडियो

किन्नर बोले- अगर BJP से सरकार नहीं चल रही है तो हमें दे दे कुर्सी, हम सरकार चलाकर दिखा देंगे