कोरोना काल में सबसे ज़रूरी काम अयोध्या में मंदिर बनाना है तो...


युसूफ किरमानी 
अयोध्या कभी शांत नहीं रही। उथलपुथल उसके डीएनए में है। अयोध्या में ही दूसरी अयोध्या (दर्शन नगर) थी। वहाँ कुछ अवशेष बचे हुए हैं।...अब प्रधानमंत्री मोदी वहाँ 5 अगस्त को मंदिर के लिए भूमि पूजन को जा रहे हैं।...अयोध्या की उनकी यह यात्रा ऐसे समय में होगी जब देश में कोरोना के मरीज़ों की संख्या 11 लाख से ऊपर पहुँची हुई है। ...
अस्पतालों की कमी, वेंटिलेटर्स के संकट के बीच किसी पीएम को लगता है कि अभी का सबसे ज़रूरी काम अयोध्या में मंदिर बनाना है तो कोई क्या कर सकता है। भारत की जनता के लिए अगर मंदिर ज़रूरी है तो उसकी सोच पर सवालिया निशान किसी को लगाने की ज़रूरत नहीं है।
मोदी ने जनता से कहा दिये जलाओ कोरोना भाग जाएगा, जनता ने साथ दिया। ....मोदी ने कहा ताली- थाली बजाओ कोरोना का चक्रव्यूह टूट जाएगा। जनता ने न सिर्फ ताली-थाली बजाई बल्कि कुछ लोगों ने डाँस भी किया।
अब कोरोना भगाने के लिए अयोध्या में सैकड़ों लोगों के साथ मोदी का मंदिर भूमि पूजन और करोड़ों लोगों के लिए मीडिया का उसका सीधा प्रसारण।...हो सकता है कि उस दिन भारत की बहुसंख्यक आबादी सड़कों पर निकलकर अपनी ख़ुशी का इज़हार करने लगे।...
...तो कहना पड़ेगा, मोदी जी मूर्ख नहीं हैं। मूर्ख कौन है यह आप लोग अब बेहतर तरीक़े से जान गए होंगे। ...बने रहिए। पर...अयोध्या शांत नहीं रहेगी। ...यह उसके डीएनए में है। वक्त का इंतज़ार कीजिए...

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post
loading...