पति को मारकर कटर से जिस्म के किये टुकड़े और लिफाफे में भरकर फिर किया ऐसा….


जयपुर। क्या आपने सुना है कि एक पत्नी को घर से बुलाए जाने पर किसी पति का बेरहमी से कत्ल कर दिया गया हो और कातिल कोई और नहीं बल्कि पत्नी ही निकले। जी हां, ऐसा ही खौफनाक वारदात को राजस्थान के जोधपुर जिले में अंजाम दिया गया,
जहां बाल विवाह के सात साल बाद पति अपनी पत्नी को बार-बार ससुराल आने की जिद्द कर रहा था। गुस्से में पत्नी ने अपने बहनों के साथ मिलकर पहले पति को नशीला पदार्थ खिलाकर उसे बेहोश कर दिया, फिर कई इंजेक्शन लगाए। जब इससे भी मन नहीं भरा तो उसे इलेक्ट्रिक कटर से काटकर टुकड़े कर दिए और पॉलिथिन में भरकर सीवर में फेंक दिया।
इस वारदात को 10 अगस्त को अंजाम दिया गया। फिलहाल पुलिस ने सीमा और उनकी बहनों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस को जानकारी में पता चला है कि सीमा समलैंगिक है जिसका संबंध कई लड़कियों के साथ है और वह मर्दों से सख्त नफरत करती थी।
उसकी और चरण सिंह का बाल विवाह साल 2013 में किया गया था। चरण सिंह कृषि विभाग में अधिकारी के पद पर था। चरण सिंह अपनी पत्नी सीमा (मुख्य आरोपी) के साथ वैवाहिक संबंध स्थापित करना चाहता था, इसलिए वह सीमा पर गौना का दबाव बना रहा था, लेकिन सीमा चरण सिंह के साथ नहीं रहना चाहती थी।

कटर से टुकड़ों में काटी पति की बॉडी

समलैंगिक पत्नी ने पति को साजिश के तहत जोधपुर के बनाड़ स्थित अपने किराए के घर में बुलाया, जहां सीमा की बहनें भी मौजूद थी। सीमा चरण से गौना के बारे में बात कर रही थी, तभी उसकी बहन खाने में नशीला पदार्थ खिला देती है। इसके बाद उसे कई इंजेक्शन भी दिया गया जिससे चरण सिंह की मौत हो गई लेकिन सीमा को इससे भी संतोष नहीं मिला तो उसने बाथरूम में ले जाकर उसे इलेक्ट्रिक कटर से काट कर पॉलिथिन में भरकर सीवर में फेंक दिया।

गिरफ्तार हुए सभी आरोपी

जोधपुर पुलिस ने महज 3 दिनों में इस केस की गुत्थी सुलझाकर गुरुवार को इसका खुलासा कर दिया। जोधपुर कमिश्नरेट के डीसीपी धर्मेंद्र सिंह यादव के मुताबिक, सीमा और उनकी बहनों प्रिंयका, बबीता और एक सहयोगी भीयाराम को गिरफ्तार कर लिया है। चरण सिंह की कुछ बॉडी के पार्ट नहीं मिले जिसकी तलाश पुलिस कर रही है। जिस कटर से चरण को काटा गया था, वह भी बरामद कर लिया गया है। शुक्रवार को सभी आरोपियों को पुलिस रिमांड में भेजा जाएगा।

Post a Comment

0 Comments