अलीगढ़: भाई को राखी बांधने मायके आई नवविवाहिता को आशिक ने मारी गोली…


अलीगढ़। गांधी पार्क थाना क्षेत्र में भाइयों को राखी बांधने आई बहन की रविवार तड़के सिरफिरे आशिक ने गोली मारकर हत्या कर दी। रक्षाबंधन से एक दिन पहले बहन की हत्या से भाइयों व परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर उसके पिता और चाचा को हिरासत में ले लिया है।
क्षेत्र के नगला माली में रहने वाले रामवीर के परिवार में छह बच्चे हैं। दो बेटों व एक बेटी की पहले शादी हो चुकी है। तीन जुलाई को चौथे व पांचवें नंबर की बेटी आरती (20) और वंदना (18) की शादी बुलंदशहर के स्याना गांव के दो अलग-अलग परिवारों में की थी। आरती और सासनी गेट के अवतार नगर निवासी कौशल की पिछले कई माह से जान पहचान थी।
आरती के घर के पीछे ही कौशल के चाचा का घर है। चाचा के यहां आने-जाने के दौरान दोनों की बातचीत होती रहती थी। कौशल आरती से शादी करना चाहता था। लेकिन आरती के परिजन इस बात से राजी नहीं थे। परिजनों ने आरती और उसकी छोटी बहन वंदना की शादी बुलंदशहर में कर दी। इसी बात को लकर कौशल खफा था।
रक्षाबंधन पर भाइयों को राखी बांधने के लिए आरती व उसकी बहन शनिवार को ही मायके आईं। इस बात की भनक कौशल को लग गई। कौशल शाम को अपने चाचा के घर आ गया था। वह रविवार तड़के चार बजे आरती के घर की छत पर कूदकर पहुंच गया।
यहां आरती, वंदना व उसकी सबसे छोटी बहन लवली मां सुधा के साथ सो रही थीं। सबसे छोटी बहन वंदना के पैर में अचानक पैर लगा तो वह जाग गई। इतने में आरोपी ने आरती के सिर में गोली मार दी। शोर सुनकर नीचे सो रहे अन्य परिजन भी छत पर पहुंच गए। सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। आरती को जिला अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।
पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। पुलिस ने मृतका के पिता की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने उसके चाचा व पिता को हिरासत में ले लिया है। बहन की हत्या से भाई सुभाष और सुरेंद्र सदमे में हैं। हत्या की खबर मिलते ही ससुराल पक्ष के लोग भी अलीगढ़ पहुंच गए।

Post a Comment

0 Comments