ये देश का दुर्भाग्य है कि कोरोना के 18 लाख से ज़्यादा केस होने के बाद भी हमारे पास कोई ठोस नीति नहीं है जो...


अंकुर मौर्य 
मौजूदा सत्ताधारी पार्टी यानी बीजेपी के तीन बड़े नेता कोरोना से संक्रमित है...गृह मंत्री अमित शाह, कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान.. उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री श्रीमती कमल रानी जी का कोरोना से कल निधन हो गया.. आने वाले समय में ये सूची ना बढ़े ये हम दुआ करते हैं..
ये देश का दुर्भाग्य है कि 18 लाख से ज़्यादा केस होने के बाद भी हमारे पास कोई ठोस नीति नहीं है जो इसे कम कर सके.. इसका कारण ये है कि सरकार ने अपनी पूरी ताकत केवल अपनी छवि साफ सुथरी दिखाने के लिए अन्य कामों में लगा दी है और जिसमें मौजूदा मीडिया भरपूर साथ दे रहा है सरकार का...
पिछेल कुछ हफ़्तों से आप देखें तो ऐसा उत्सव का माहौल दिखाया जा रहा है कि हमने बहुत बड़ी जंग जीत ली हो और देश में सबकुछ सही हो रहा हो... फिर क्या आसाम और बिहार की बाढ़ में फंसे हुए लोगो की चिंता करना ... क्या कोरोना और किसान की चिंता करना.. और इन सबपर सरकार से तीखे सवाल नहीं किये जा रहे है..
इस संकट की घड़ी में भी जोड़ तोड़ कर सरकारें बनाई जा रहीं और बचा-खुचा विपक्ष भी खत्म हो रहा है.. "विपक्ष" का कमज़ोर होना भी एक बड़ा कारण है जो सरकार का विभिन्न मुद्दों पर उस तरीके से विरोध करने में नाकाम रही है जिस तरीके से किया जाना चाहिए. ना सिर्फ कांग्रेस बल्कि वो तमाम क्षेत्रीय पार्टियां जिनमें एकता सिर्फ दिखावे की है... और इसी चीज़ का फायदा मौजूदा सरकार उठा रही है..
सच्चाई यही है कि आमजन की परेशानियां बहुत बढ़ी गयी है..   नौकरियां नहीं है या जा रही है, जो नौकरी कर भी रहे हैं उनमें से तमाम लोगों की सैलरी नहीं आरही है..     वहीं हर साल की तरह इस बार भी बाढ़ की वजह से तमाम घर तबाह हो गए.. मौतें हुई  .. किसानों की फसलें खराब हुई .. ये तमाम मुद्दे इस देश के लिए महत्वपूर्ण नहीं है बस आपको बताया जा रहा है की जश्न मानिए..

Post a Comment

0 Comments