दिल्ली युवा कांग्रेस ने कई अधिवक्ताओं को रिसर्च विभाग में दिया काम करने का मौका

नई दिल्ली: अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी में 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान संगठनात्मक स्तर पर देश की समस्याओं से जुड़े हुए मुद्दों को एवं राजनीतिक मुद्दों को तथ्यों एवं आंकड़ों के आधार पर प्रस्तुत करने के लिए  रिसर्च विभाग की स्थापना की थी  | यह विभाग देश के सर्व सामान्य तक पहुंच  बनाने के लिए कई गैर राजनीतिक प्लेटफार्म बनाने की योजना बना रहा है |
कांग्रेस पार्टी की रिसर्च विभाग  के कंधों पर कई जिम्मेदारियां हैं जैसे कि देश से जुड़ी हुई समस्याओं के कारण एवं निवारण को तथ्यात्मक आंकड़ों के साथ प्रस्तुत करता है|  मौजूदा सरकार द्वारा विभिन्न योजनाओं की असफलता, भ्रष्टाचार, लालफीताशाही  एवं अनियमितताओं के कारण उपजी देश की समस्याओं को तथ्यात्मक तरीकों से जानकारी उपलब्ध करवाता है |
दिल्ली प्रदेश युवा कांग्रेस स्तर पर यह जिम्मेदारी सर्वप्रथम भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास ने  डॉ. अनिल कुमार मीणा को कार्यभार प्रभारी के तौर पर संभालने को दिया |  डॉ. अनिल मीणा ने बताया कि युवा कांग्रेस का रिसर्च विभाग सूचना अधिकार अधिनियम 2005 के तहत आरटीआई कानून के माध्यम से सरकार से प्राप्त सूचनाओं के आधार पर योजनाओं में हुए भ्रष्टाचार, अनियमितताएं, असफलताओं को उजागर करने का काम कर रहा है|
दिल्ली प्रदेश स्तर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष के दिशा निर्देशानुसार कई युवाओं को काम करने का मौका दिया जा रहा है| फिलहाल जारी की कार्यकारिणी की नई कमेटी में भारतीय न्याय व्यवस्था से जुड़े कई अधिवक्ताओं को शामिल किया है|  सभी नवनिर्वाचित अधिवक्ताओं की भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय मुख्यालय में मीटिंग ली | 
इस बैठक में उपस्थित अधिवक्ता संजीव, दीपक राठौर, इरशाद सिद्दीकी,  शिरीष कुमार सिंह, हाशिम शिवम मिश्रा, डॉ मोहम्मद अरशद जमाल,  मोहम्मद असद बेग,  डॉ. प्रवीण भारती एवं राकेश शर्मा इत्यादि उपस्थित रहे| दिल्ली में होने वाले आगामी एमसीडी के चुनाव को ध्यान में रखते हुए सभी पदाधिकारियों की जिम्मेदारियां निश्चित की गई |
 डॉ. अनिल कुमार मीणा ने बताया कि कांग्रेस पार्टी की विचारधारा से जुड़कर कदम से कदम चलने के लिए तैयार सभी युवा साथियों के लिए संगठन में कार्य करने के लिए दरवाजे खुले हैं 

Post a Comment

0 Comments