इस बार फीका रहा राम रहीम का रक्षाबंधन, कई गुना घट गई राखियों की संख्या


रोहतक। अबकी बार राखी के त्यौहार पर सुनारियां जेल के कर्मचारियों और डाक विभाग ने चैन की साँस ली है क्योंकि जेल में बंद राम रहीम की सिर्फ एक बोरी चिट्ठियां और राखियां आई हैं। देखा जाये तो डेरा प्रमुख का इस बार रक्षाबंधन काफी फीका गया। इस बार उनके अनुयायियों की ओर काफी कम राखियां भेजी गई हैं।
इस बार करीब 650 राखियां ही राम रहीम के लिए सुनारिया के डाकघर में आई हैं। पिछले 2 साल की बात करें तो हर साल करीब 20 हजार राखियां व ग्रीटिंग राम रहीम के पास आते थे। इन्हें डाक विभाग अतिरिक्त स्टाफ लगा छंटाई के बाद 18-20 बोरों में भरकर ऑटो के जरिये जेल तक पहुंचाता था। इस बार एक बोरे में भरकर राखियां को बाइक से ही जेल तक पहुंचा दिया गया।
हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, दिल्ली जम्मू समेत कई प्रदेशों से राम रहीम के पास राखी व चिट्ठी आई हैं। हर चिट्ठी पर डॉ. राम रहीम सिंह इंसा, सुनारियां जेल रोहतक लिखा है। अधिकतर स्पीड पोस्ट से भेजी गई हैं।  हरियाणा में सबसे ज्यादा सिरसा, कैथल, जींद, हिसार व गुरुग्राम से राखियां पहुंच रही है।
 रक्षा-बंधन तक राखियां और इसके बाद 15 अगस्त को गुरमीत राम रहीम के जन्मदिन के ग्रीटिंग पहुंचना शुरू हो जाएंगे। पिछले साल तो एक साथ ही राखियां और ग्रीटिंग पहुंचे थे। लेकिन इस बार दोनों पर्व में कई दिन का फासला है। हर चिट्‌ठी को स्कैन व सैनिटाइज कर जेल प्रशासन राम रहीम के बैरक में पहुंचाता है। राम रहीम 1-2 चिट्ठियों को पढ़कर वापस करता रहता है। कुछ चिटि्ठयों का वह जवाब भी देता है।

Post a Comment

0 Comments