आज आपको दुआ की जरूरत है तो वही जनता खुश हो रही है आपकी बीमारी सुनकर जिसे दुआ करनी थी आपके लिए


आदरणीय अमित शाहजी, 
पता लगा की कोरोना ने आपको भी अपनी गिरफ्त में ले लिया है। सुनकर दुख हुआ। आपके जल्दी स्वस्थ होने की कामना करता हूं। ईश्वर आपको लंबी उम्र दे। वैसे एक बात देखिएगा और सोचिएगा। अपने आईटी सेल को बोलिए पता करे कि एक बड़ा तबका खुश क्यों है आपकी बीमारी की खबर सुनकर। सर कोई किसी को बददुआ अनजाने में नहीं देता।
अगर आप के साथ ऐसा हो रहा है तो यह समय आपके लिए गहन चिंतन का है। जो जहर आपने उगला है पिछले 8-10 साल में वह सब अब जनता ब्याज समेत वापस कर रही है। यह वही जनता है जिसके वोट से आप आज हिन्दुस्तान के मंत्री हैं। यह वही जनता है जिसको आपने अपने जूते की नोक पर रखा। अब भुगतिए।
याद दिला दू। जज लोया, इशरत जहां, सोहराबुद्दीन, हरेन पांड्या, तुलसी प्रजापति इन सब की हत्या में आपका नाम आया। क्यों ? तड़ीपार क्यों होना पड़ा आपको ? CAA / NRC पर आपने कितना जहर उगला ? कश्मीर को बरबाद कर दिया। शाहीन बाग की महिलाओं का मजाक उड़ाया। क्या मिला ? दिल्ली दंगों में आपकी भूमिका क्या थी ? आप गृह मंत्री हैं देश के। आप चाहते तो यह सब नहीं होता।
आज आपको दुआ की जरूरत है तो वही जनता खुश हो रही है आपकी बीमारी सुनकर जिसे दुआ करनी थी आपके लिए। सोचिए और खूब सोचिए। हो सके तो सुधार कीजिए। समय मिला है। क्या खोया क्या पाया इस पर विचार कीजिए। अभी चार साल हैं आपके पास। बहुत कुछ सुधार सकते हैं। जनता ने आपको बहुमत दिया सब कुछ बेचने के लिए नहीं बनाने के लिए। कुछ बनाइए। संतुष्टि मिलेगी। किसी चीज को बरबाद करना दुनिया में सबसे आसान काम है।
भगवान शायद आपका भला भी कर दे। वैसे तो मैं भी बहुत जहर उगल सकता था आपके खिलाफ लेकिन फिर आपमें और मुझमें फर्क क्या रह जाता। वैसे खुश होने वालों में एक मैं भी हूं। बदल दीजिए मेरा दिल। जीत लीजिए मुझे। कोशिश करिए। कोशिश अक्सर सफल होती है।

राजीव श्रीवास्तव की फेसबुक वाल से 


Post a Comment

0 Comments