भारत की इस सबसे पुरानी जेल में बंद है मात्र एक कैदी, इस कैदी पर सरकार खर्च करती है इतने रूपये, मिलती है ये खास सेवाएं


जेल के नाम से लेने से भी सब लोग कांप जाते है। आज हम एक ऐसी जेल के बारे में बताने जा रहे जो सबसे पुरानी है और उस जेल में मात्र एक कैदी को रख रखा है
आज हम आपको बताएगें की यह जेल कहां है और इसमें एक कैदी को ही क्यों रखा गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यह जेल गुजरात के पास दिप ,दीव मे एक ऐसी जेल है जहां सिर्फ एक ही कैदी रखा गया है। बता दें कि इस कैदी का सारा खर्चा सरकार उठाती है।
इस जेल की खास बात है कि यह गुजरात के पास बने दीप दीव में एक बहुत ही पुरानी जेल है इस दीप को केंद्र शासित प्रदेश के रूप में माना जाता है । इस दीप की खूबसूरती देखते ही बनती हैं। बता दें कि इस जेल को बने 472 साल हो चुके है।
सदियों पहले पुर्तगाल का इस दीप पर शासन था और उस समय को ही इस जेल का निर्माण किया गया था। बता दें कि इसि जेल में एक कैदी है जिसका नाम दीपक कांजदी है जिसकी उम्र 30 साल है। इस जेल में 20 लोगों की रहने की सेल बनी हुई है लेकिन यहां पर अकेला दीपक रहता है।
हैरानी वाली बात है कि इसको सभी कैदियों से अलग कुछ फैसिलिटिज दी गई है। बता दें कि यहां पर दीपक को दूरदर्शन देखना एवं आध्यात्मिक मैगज़ीन पढ़ना एवं गुजराती अखबार पढ़ने के लिए दिए जाते हैं 

Post a Comment

0 Comments