इन लुटेरी दुल्हनों को पहचान लीजिये क्योंकि यह शादी करने के बाद परिवार को लूटकर हो जाती हैं फरार, ऐसे चुनती हैं अपना शिकार


हिसार। हरियाणा में लुटेरी दुल्हनों के कई मामले सामने आने लगे हैं। यह पहले तो उस शिकार को ढूंढती हैं, जिनकी शादी नहीं हो रही होती और फिर उनके साथ शादी रचा कर कुछ दिनो में पैसा और जेवर लेकर फरार हो जाती हैं। फिर अपने अगले शिकार की तलाश करती हैं और यह खेल इसी तरह से जारी रहता है।
इस तरह की लुटेरी दुल्हनों के मामले महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, हिसार, लुहारू, चरखी दादरी, कैथल, जींद, अंबाला, पानीपत, सोनीपत और रोहतक में भी सामने आ चुके हैं। इन जिलों में कई शादी के आस लिए युवा पिछले छह महीने से लुटेरी दुल्हनों के आसान शिकार बन रहे हैं। ये दुल्हनें या तो शादी के एक दिन बाद ही सब कुछ लेकर चम्पत हो जाती हैं या फिर पगफेरे का इंतजार करती हैं।
अगर आप भी शादी के लिए लड़की तालाश रहे हैं तो सावधान हो जाए। दरअसल, हरियाणा पुलिस की तरफ से दर्ज एक मामले दौरान खुलासा हुआ है कि ताजा मामले में रेवाड़ी के एक नौजवान को उसकी नव विवाहित पत्नी द्वारा ठग लिया गया।
जानकारी के अनुसार रेवाड़ी के एक नौजवान ने रिश्ते करवाने वाली एक वेबसाइट के द्वारा अपने के लिए जीवन साथी की तलाश की तो उसका संपर्क राजस्थान के हनुमान ज़िले की पारुल पुत्र प्रभु दयाल गांव भोजासर थाना भादरा के साथ हुआ। पुलिस को दिए बयानों में नौजवान ने बताया कि 1 जुलाई को पारुल के परिवार के साथ उनका संपर्क हुआ और 3 जुलाई को लड़की वाले उनके घर पहुंच गए । 4 जुलाई को लड़की वाले उसे और उसकी माता को राजस्थान शगन के लिए ले गए, जहां से वह लड़की को चुन्नी चढ़ा कर ले आए। 
पीड़ित नौजवान अनुसार लड़की का पिता प्रभु दयाल रेवाड़ी पहुंचा और लड़की को मायके फेरा डालने के लिए ले गया। दूल्हे के परिवार ने जब रास्ते में राजी खुशी जानने के लिए फोन किया तो संपर्क न मिलने के कारण इन्हें शक हो गया। जब दूल्हे परिवार ने अपने घर का सामान चैक किया तो उन्हें लाखों रुपए के गहने कुछ सूट और साढ़े 5 लाख रुपए नकदी के गायब होने का पता लगा, जिस पर उन्होंने पुलिस को सारे मामले की सूचना देकर आरोपियों के ख़िलाफ़ केस दर्ज करवा दिया। फ़िलहाल पुलिस की तरफ से मामले की जांच करने की बात कही जा रही है। 
जनवरी में पानीपत में लुटेरी दुल्हनों ने तीन युवाओं को फर्जी शादी का शिकार बनाया था और तीन दिन रहने के बाद सारा सामान लेकर चम्पत हो गई थीं। ऐसे ही मामले करनाल और नीलोखेड़ी के कई गावों में भी सामने आये थे। 29 जुलाई को महेंद्रगढ़ के एक गांव में भी कुछ इसी तरह की वारदात सामने आई है, जहां एक लुटेरी दुल्हन ने एक व्यक्ति को तो लूट लिया और दूसरे को लुटने की फिराक में थी। दोनों युवकों की आपस में जान पहचान होने के कारण यह राज खुल गया था और उन्होंने तुरंत ही पुलिस में इस बात की सूचना दी।
बताया जा रहा है कि दुल्हन के परिजनों ने शादी के खर्चे के नाम पर 2 लाख रुपये लिए थे। दुल्हन  शादी के 10 दिन तक लड़के के साथ रही थी और उसके बाद वह सभी गहने और सोना लेकर फरार हो गई। पुलिस ने मामले की जांच की तो सामने आया कि इन पूरी वारदातों में दुल्हन ही अकेली नहीं हैं, बल्कि 25 से अधिक लोग इस गिरोह में शामिल हैं, जो जबरन लड़कियों से यह काम करवा रहे हैं।
हिसार के बड़वाली इलाके से भी कुछ दिन पहले लुटेरी दुल्हन करीब 15 लाख का चूना लगाकर फरार हो चुकी है। उसने पहली रसोई के नाम पर नशीली खीर बना कर परिजनों को खिलाया और सब को बेहोश कर सारा सामान लेकर चम्पत हो गई थी। पकडे जाने पर उसने खुलासा किया था कि वह ऐसे इलाकों को चुनती है
जहां लड़कियों का रेशो बहुत कम है और युवाओं को जल्दी लड़की नहीं मिलती। उनका गैंग ऐसे विदुर लोगों को भी निशाना बनाता है जो तलाकशुदा है या पत्नी मर चुकी है। बच्चे वाले युवा जल्दी झांसे में आकर शिकार बन जाते हैं। ऐसी दुल्हनों से सिर्फ हरियाणा ही नहीं राजस्थान भी पीड़ित है।

Post a Comment

0 Comments