तब राहत इंदौरी जैसा शायर ही याद दिला सकता था कि यह हिंदुस्तान सबका है और सबके लिए है?


एक तरफ़ जब ये चिंता जताई जाती कि बहुसंख्यकवाद की चुनौती अपने चरम पर है और अल्पसंख्यक समुदायों और प्रगतिशील लोगों को हाशिए पर धकेलने की कोशिश जारी है, तब राहत इंदौरी जैसा शायर ही याद दिला सकता था कि यह हिंदुस्तान सबका है और सबके लिए है. उनकी एक बहुत मशहूर हुई ग़ज़ल के दो शेर यहां उद्धृत करना ज़रूरी लग रहा है जो प्रतिरोध की बहुत मज़बूत आवाज़ बनाते हैं.
लगेगी आग तो आएंगे घर कई ज़द में, 
यहां पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है।
सभी का ख़ून है शामिल यहां की मिट्टी में, 
किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है।
यह पूरी ग़ज़ल उन पस्त हिम्मत होते दिलों को बहुत हौसला देती रही जो हाल के वाक़यात से ख़ुद को मायूस और डरा हुआ पा रहे थे. यह दरअसल अपनी ज़मीन पर अपने दावे का बुलंद इक़बाल था जो इस पूरी ग़ज़ल में बहुत ख़ुलूस के साथ खुलता रहा.
लेकिन यहां इन दो अशआर को उद्धृत करने का एक मक़सद और है. पहला तो इस बात की ओर ध्यान खींचना कि राहत बहुत सीधी लगने वाली बात में भी एक गहरा अर्थ निकाल लाते हैं. यानी जब वे कहते हैं कि आग लगेगी तो सिर्फ़ उनका घर नहीं जलेगा, गली में सबके मकान ज़द में आएंगे, तो वे बस एक दंगे को लेकर बात नहीं कर रहे होते हैं.
वे दरअसल याद दिलाते हैं कि हिंदुस्तान नाम का यह मुल्क किसी इकलौती आस्था का इकलौता मकान नहीं है, यह गली कई विश्वासों, कई तहज़ीबों का घर है और एक झुलसेगा तो सब झुलसेंगे. यानी आप एक घर में आग नहीं लगा रहे, पूरे हिंदुस्तान को लपटों के हवाले कर रहे हैं.
दूसरी बात यह कि अमूमन ग़ज़ल को बहुत मुलायम लफ़्ज़ों की विधा माना जाता है. हालांकि इसमें तोड़फोड़ बहुत हुई है और बहुत साहसिक प्रयोग भी हुए हैं, लेकिन 'बाप' जैसे शब्द का इतना हेठी भरा इस्तेमाल कहीं और नहीं दीखता और इसके बावजूद ग़ज़ल की गरिमा कहीं खंडित नहीं होती. दरअसल यह राहत इंदौरी का करिश्मा था कि उन्हें मालूम था, कौन सी बात कैसे कही जाए. वे बड़ी सहजता से बहुत तीखी बातें कह जाते थे जो समकालीन राजनीति और समाज को चीरती हुई मालूम होती थीं.
सरहदों पर तनाव है क्या? 
ज़रा पता तो करो चुनाव है क्या? 
जैसे अशआर में ली गई चुटकी भीतर तक ज़ख़्म करने वाली है.
(BBC पर प्रियदर्शन का लेख)

Comments

Popular posts from this blog

Bollywood Celebrities Phone Numbers | Actors, Actresses, Directors Personal Mobile Numbers & Whatsapp Numbers

जौनपुर: मुंगराबादशाहपुर के BJP चेयरमैन ने युवती के साथ कई महीने तक किया बलात्कार, देखें वायरल वीडियो

किन्नर बोले- अगर BJP से सरकार नहीं चल रही है तो हमें दे दे कुर्सी, हम सरकार चलाकर दिखा देंगे