टीवी वाले पूरी दुनिया की बात छोड़कर सुशांत सिंह राजपूत की ख़बर को सनसनी बनाकर पेश कर रहे हैं क्योंकि बिहार में चुनाव है?


दिलीप खान 
सुशांत सिंह राजपूत के केस में अजीब-अजीब तरह की बात हो रही है. क्राइम सीन है मुंबई, लेकिन बिहार पुलिस का एक अधिकारी सिंघम की तरह वहां पहुंच गया. बिहार पुलिस मुंबई पुलिस से दस्तावेज़ मांग रही है.
किस आधार पर मांग रही है? एक ही केस की अलग-अलग जांच दो राज्यों की पुलिस कब से करने लगी? कोई नियम-क़ानून है या नहीं? मीडिया, नेता, समर्थक, भावुक, ग़ुस्सैल, न्यायप्रिय हर कोई इस मामले में मुट्ठी तानकर ग़लत जगह लहरा रहे हैं.
दिशा पाटनी के साथ आदित्य ठाकरे की एक तस्वीर ख़ूब वायरल हुई. दिशा पाटनी के बजाए उस लड़की को रिया चक्रवर्ती और दिशा सालयान बता दिया गया. फ़ेसबुक, WhatsApp हर जगह वायरल हो गई तस्वीर. कॉन्सपिरेसी थ्येरी तुरंत तैरने लगी. 'लाउडस्पीकर' वाले सोनू निगम ने भी ट्वीट किया.
रिया चक्रवर्ती को बिहार के एक मंत्री ने ‘विषकन्या’ और ‘सुपारी किलर’ बता दिया. बिना जांच-पड़ताल के कई लोग उसे जेल भेजने की भी बात करने लग गए.
सुशांत की पूर्व गर्लफ्रेंड अंकिता लोखंडे ने कह दिया कि ‘सुशांत को डिप्रेशन हो ही नहीं सकता’. ये उस तरह की बात है जैसे डिप्रेश्ड होने वाले लोग धरती के अलग गोले पर पाए जाते हों. ऐसा लगता है जैसे डिप्रेशन किसी ‘सफ़ल’, ‘ग्लैमरस’, ‘मज़बूत दिखने वाले’ को हो ही नहीं सकता. कमाल है!
टीवी वाले पूरी दुनिया की बात छोड़कर इस ख़बर को सनसनी बनाकर पेश कर रहे हैं. बिहार में चुनाव है. सुशांत की मौत पर राजनीति चल रही है और फ़ेसबुक पर जेम्स बॉन्ड टाइप के लोग रोज़ कोई स्क्रीनशॉट लगा देते हैं. सब क्राइम एक्सपर्ट हुए पड़े हैं.

Post a Comment

0 Comments