बलरामपुर: उतरौला का मुस्तकीम अहमद निकला बगदादी का आतंकी, जानिए मुस्तकीम की पूरी कहानी


इकबाल खान
उतरौला (बलरामपुर): नई दिल्ली में मुठभेड़ के बाद पकड़े गए कुख्यात आतंकी ग्रुप इस्लामिक स्टेट्स ऑफ सीरिया एंड इराक (आइ एस आइ एस) ऑपरेटिव अबु युसुफ के पास से दो प्रेशर कुकर में 15 किलोग्राम आईडी, एक 30 बोर का पिस्टल, दो जिंदा कारतूस तथा एक मोबाइल फोन बरामद हुआ है।
सूत्रों के मुताबिक़ धौलाकुआँ से पकड़े गए आतंकी अबू युसूफ उर्फ मुस्तकीम अहमद उर्फ बाबा के मन में सीएए, एनआरसी, धारा 370, और अयोध्या में मंदिर निर्माण को लेकर खासी नाराजगी थी।अयोध्या में राम मंदिर पर हमला करने की साजिश थी लेकिन प्रशासन सख्त होने के कारण हमले को अंजाम नही दे सका।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आईएसआईएस का दुर्दांत आतंकी पिछले पांच सालों से आईएसआईएस के संपर्क में था जो आई एस आई एस के हैंडलरों के इशारों पर काम करता था उसका पहला हैंडलर यूसुफ अलहिंदी था जो सीरिया में मारा गया उसके बाद दूसरा हैंडलर अबू हुफ़ैजा पाकिस्तानी अफगानिस्तान में ड्रोन हमले में मारा गया।
अबु हुफ़ैजा ने अबु यूसुफ को अफगानिस्तान में बुलाया था जिसकी वजह से इसने पासपोर्ट भी बनवा लिया था लेकिन अबु हुफ़ैजा के ड्रोन हमले में मारे जाने के बाद नए हैंडलर ने अबु युसुफ को भारत में रुकने को कहा सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार अबु यूसुफ उर्फ मुस्तकीम अहमद उर्फ बाबा पिता की बीमारी का बहाना बनाकर दवा लेने लखनऊ गया था
जहां पर वह वृहस्पतिवार रात से ही गायब हो गया और शुक्रवार की रात को अपाचे बाइक से धौलाकुँआ के पास पुलिस के साथ मुठभेड़ में पकड़ा गया। जिसके पास से 02 प्रेशर कुकर में 15 किलो आईडी व 30 बोर का पिस्तौल और  एक मोबाइल फोन बरामद हुआ पकड़े गए आतंकवादी ने अपना ताल्लुक बलरामपुर जनपद के उतरौला तहसील अंतर्गत विकासखंड गैंडासबुजुर्ग के बढ़या भैसाही को बताया है।
बलरामपुर का नाम आते ही बलरामपुर पुलिस सहित यूपी एटीएस की टीम बढ़या भैसाही पहुंच गई गांव को चारों तरफ से सील कर दिया गया तथा गांव से किसी व्यक्ति को बाहर आने जाने के लिए मना कर दिया गया। मीडिया की टीम को भी अबू युसुफ के घर से कुछ दूरी पर ही रोक दिया गया सूत्रों के मुताबिक अबु युसुफ उर्फ मुस्तकीम कॉस्मेटिक की दुकान करता था
आसपास के दुकानदारों ने बताया कि उसकी दुकान कभी-कभी खुलती थी वह बहुत सीधा और सज्जन इंसान था कभी किसी से कोई मतलब नहीं रखता था जब भी उसकी दुकान खुलती थी तो उसका आधा सटर ऑफ ही रहता था दिल्ली में पकड़े गए आतंकी को दिल्ली पुलिस द्वारा सड़क के रास्ते उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जनपद लाया गया
जहां से उसको उसके पैतृक निवास बढ़या भैसाही शाम को 7:30 बजे दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल द्वारा लाया गया कुछ समय पूछताछ के बाद वहां से उसको लेकर दिल्ली पुलिस, यूपी ए टी एस व उतरौला पुलिस पहुंची जहां पर उसकी निशानदेही पर गांधीनगर इलाके निवासी मनिहार उसके भतीजे फारुख गिरफ्त में लिया गया तथा टॉकीज के पास से वसीम को भी गिरफ्तार किया गया
तीनों संदिग्धों को उतरौला कोतवाली लाकर पूछताछ किया जा रहा है। इस पूरे मामले पर पूरे उतरौला शहर में दहशत का माहौल है।समाचार लिखे जाने तक कोई भी अधिकारी कुछ बोलने को तैयार नहीं है। लोन वुल्फ अटैक करने की फिराक में था आतंकी अबु युसुफ लोन वुल्फ अटैक हमले का वो तरीका है जिसमें आतंकी रोजमर्रा या साधारण चीजों का इस्तेमाल करते हैं।
इस तरह के हमले में हमलावर अकेला ही पूरे अटैक को अंजाम देता है। इनका मकसद साफ होता है अकेले दम पर ज्यादा से ज्यादा नुकसान पहुंचाना। खास बात ये है कि इसके लिए फिदायीन हमले की तरह ज्यादा विस्फोटक या संसाधन की जरूरत नहीं होती। ऐसे अटैक छोटे हथियारों, चाकुओं, बंदूकों और कभी-कभी हाथ से बनाए गए विस्फोटकों से भी किए जाते हैं।
प्रशासन व सुरक्षा एजेंसियों के लिए चुनौती हैं ऐसे वुल्फ अटैकर्स। इस तरह के हमलावर का पता लगाना पुलिस के लिए मुश्किल होता है। क्योंकि हमले के लिए किसी बड़े बजट, बड़ी योजना या बड़ी टीम की जरूरत नहीं होती। खुफिया एजेंसियों के लिए भी ऐसे प्लान का पता लगाना और उसे फेल करना मुश्किल होता है, क्योंकि ये अकेले बैठकर घर में ही बन जाते हैं। कई बार तो परिवार को भी इस बात का अंदाजा नहीं हो पाता।
इंटरनेट के जरिये मिल जाती है ट्रेनिंग पुराने आतंकी संगठनों में टेक्नॉलजी का इतना इस्तेमाल नहीं होता था, जितना ISIS के लड़ाकों ने किया। ये युवाओं को इंटरनेट के जरिये ही रेडिकल बनाते हैं और उनकी मानसिकता ऐसे हमलों के लिए तैयार कर देते हैं।यही वजह है कि लोन वुल्फ हमलावर इंटरनेट या किसी अन्य माध्यम के जरिए आतंकी संगठनों के जुड़े होते हैं और उनसे ट्रिक्स सीखकर गंभीर घटनाओं को अंजाम दे देते हैं।
ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार इसी वर्ष अप्रैल में श्मशान घाट पर उसने शाम को साढ़े सात बजे के आसपास एक धमाका किया था लेकिन हम लोगों ने उसको अल्लाह का कहर समझा था। उन्होंने ने बताया कि धमाका इतना तेज था कि पूरा गांव थर्रा उठा श्मशान में धमाके के साथ खूब तेज उजाला हो गया था। आतंकी अबु यूसुफ की पत्नी ने बताया कि उसको कुछ मालूम नही था
उसने बताया कि जब पुलिस वाले आये और घर के चारो तरफ से घेर लिया था सभी को घर से बाहर न निकलने के लिए कहा गया। उसने बताया कि उसके घर की आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी नही किसी तरह से घर का खर्च चलता था। उसने बताया कि उसको अपने पति के बारे में कुछ पता नही था कि वह क्या कर रहा था या उसका किसके साथ संपर्क था उसने बताया कि जो घर खर्चे के लिए पैसा मिलता था उसी पैसे में से वह कुछ पैसे बचाकर वह उसी से यह सब समान खरीद कर लेता था। उसने बताया कि उसके घर से भरी मात्रा में विस्फोटक और 02 आत्मघाती जैकेट और एक बेल्ट बरामद हुआ है।

Comments

Popular posts from this blog

Bollywood Celebrities Phone Numbers | Actors, Actresses, Directors Personal Mobile Numbers & Whatsapp Numbers

जौनपुर: मुंगराबादशाहपुर के BJP चेयरमैन ने युवती के साथ कई महीने तक किया बलात्कार, देखें वायरल वीडियो

किन्नर बोले- अगर BJP से सरकार नहीं चल रही है तो हमें दे दे कुर्सी, हम सरकार चलाकर दिखा देंगे