LIFE INSURANCE POLICY पर भी मिलता है आसानी से लोन, ऐसे करें ऑनलाइन आवेदन


नई दिल्लीः कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते वैसे ही लोगों को कई तरह की आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में बहुत से लोग लोन लेकर अपना समय काट रहे हैं, क्योंकि उनके पास आय के साधन फिलहाल पूरी तरह से खत्म हो गए हैं.

अगर आप लोन (Loan) लेने की सोच रहे हैं और आपके पास पहले से किसी भी कंपनी की लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी (Life Insurance Policy) है तो फिर इसका फायदा उठाकर कम ब्याज (Low interest) पर लोन लिया जा सकता है. इंश्योरेंस कंपनियों के अलावा बैंक (Bank) और एनबीएफसी पॉलिसी के बदले लोन देते हैं.

लाइफ इंश्योरेंस कंपनी एलआईसी (LIC) भी अपने ग्राहकों को पॉलिसी (Policy) के बदले लोन की सुविधा दे रही है. इसमें ब्याज दर सिर्फ नौ फीसदी है. इसके लिए आप ऑनलाइन भी अप्लाई (Online Apply) कर सकते हैं.

इतना मिल सकता है लोन

इंश्योरेंस पॉलिसी के बदले लोन की अमाउंट पॉलिसी के और उसकी सरेंडर वैल्यू पर निर्भर होती है. लोन का अमाउंट पॉलिसी की सरेंडर वैल्यू का 80 से 90 फीसदी तक हो सकती है. हालांकि, इसमें कुछ शर्तें होती हैं. इतना कर्ज आपको उसी स्थिति में मिलेगा जब आपके पास मनी बैक या एंडाउमेंट पॉलिसी (Endowment Policy) है.

केवल चुकाना होगा ब्याज

सबसे अच्छी बात है कि यह लोन आपको चुकाने की जरूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि, पॉलिसी मैच्योर होने पर लोन का अमाउंट कंपनी काट लेगी और बचे हुए पैसे आपको वापस कर दिए जाएंगे. ऐसे में आपको सिर्फ लोन का ब्याज चुकाना होगा. कुछ इंश्योरेंस कंपनियां लोन की रकम तय करने के लिए यह देखती हैं कि आपने कितना प्रीमियम चुकाया है. ऐसे में वह चुकाए गए प्रीमियम का 50 फीसदी तक कर्ज देने को तैयार होती हैं.

होता है कम से कम डॉक्यूमेंटेशन

इंश्योरेंस पॉलिसी पर लोन के लिए ज्यादा डाक्यूमेंट्स की जरूरत नहीं होती है. इसमें अप्लाई फार्म के साथ आपको लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी के सभी जरूरी ओरिजिनल डॉक्यूमेंट जमा करने होते हैं. लोन का अमाउंट प्राप्त करने के लिए एक कैंसिल चेक अप्लाई फार्म के साथ लगाना होगा. यह चेक नाम, अकाउंट नंबर आईएफसी कोड की सही जांच के लिए लगाया जाता है. इंश्योरेंस पॉलिसी के बदले लोन लेने पर एक Letter of contract पर भी हस्ताक्षर करना होता है.

Post a Comment

0 Comments