धन्ना सेठों के आगे नतमस्तक है भाजपा सरकार-इ0वीरेन्द्र यादव।। Raebareli news ।।

 


शिवाकांत अवस्थी

रायबरेली: समाजवादी पार्टी रायबरेली ने जिलाध्यक्ष इं0 वीरेन्द्र यादव की अगुवाई में किसानों एवं श्रमिकों के हितों की सुरक्षा के लिए कृषि विधेयक एवं श्रम कानून को वापस लेने व राज्य में लागू न करने की मांग को लेकर महामहिम राज्यपाल महोदया को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को दिया। ज्ञापन देते समय जिलाध्यक्ष इ0 वीरेन्द्र यादव, पूर्व विधायक सुरेन्द्र विक्रम सिंह, रामलाल अकेला, आशा किशोर, श्याम सुन्दर भारती, अरशद खान, श्रवण चैधरी, मुकेश रस्तोगी, ओ0पी0 यादव, राजेश मौर्या, नीलू पाण्डेय, नारेन्द्र सिंह, चन्द्रराज पटेल, डा0 आई0 जावेद, जे0पी0 यादव, देवेश यादव, शुभम सिंह, डॉ0 माताफेर सिंह, अरविन्द चैधरी आदि उपस्थित रहे।


  आपको बता दें कि, इस अवसर पर जिलाध्यक्ष इ0 वीरेन्द्र यादव ने कहा कि, भाजपा सरकार पूंजीपतियों को नमन एवं किसानों को दमन और मजदूरों का शोषण एवं धन्ना सेठों का पोषण करना चाहती है।  भाजपा सरकार देश के चन्द बड़े धन्ना सेठों के समक्ष नतमस्तक है। यह सरकार किसानों एवं मजदूरों की हितैषी नहीं है। इस अध्यादेश से बहुसंख्यक किसानों का भविष्य अंधकार मय हो जायेगा। देश की 60 प्रतिशत आबादी की रोजी-रोटी किसानों और मजदूरों पर निर्भर है। भाजपा श्रमिकों के हितों की हत्या कर मालिकों को मलाई बांटने का काम कर रही है।    


   श्री यादव ने कहा कि, भाजपा किसानों और श्रमिक वर्ग का मनोबल तोड़ने, उन्हें असहाय बनाने की साजिश में जुट गई है।    इससे साबित हो गया है कि, किसानों को फायदा पहुंचाने और श्रमिकों को रोजगार देने के उसके दावे सिर्फ सफेद झूठ हैं। इस कानूनों को वापस लिया जाना चाहिए। ऐसी झूठी और प्रपंच रचने वाली सरकार के खिलाफ जनता में भारी आक्रोश है।



   वहीं इस मौके पर मौजूद बछरावां के पूर्व विधायक रामलाल अकेला ने कहा कि, केंद्र की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार किसानों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है, तथा लागू किए गए किसान विरोधी अध्यादेश में किसानों की कमर तोड़ कर रख दी है। ऐसे में प्रदेश व केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा किसानों के हितों का दावा खोखला साबित हो रहा है, जिसके चलते आज उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश का किसान कराह रहा है।

Post a Comment

0 Comments