संसद सत्र में मोदी सरकार दिलचस्प जवाब दे रही है?



दिलीप खान 

संसद सत्र में मोदी सरकार दिलचस्प जवाब दे रही है. पहले ही दिन राज्यसभा में जिन सवालों के जवाब दिए गए, उनमें से कुछ उदाहरण देखिए.

1. सरकार ने 34 सरकारी कंपनियों को बेचने की मंजूरी दे दी है. इनको बेचने का पैमाना लाभ-हानि को नहीं बनाया गया. यानी मुनाफ़ा कमाने वाली कंपनियों को भी मोदी जी बेचने जा रहे हैं. इन 34 में 8 को बेचने का काम पूरा हो चुका है. 4 बंद होने की कगार पर है, लिहाज़ा बेचने में असुविधा हो रही है. 2 क़ानूनी दांव-पेंच के कारण फंस गई हैं. बाक़ी 20 को बेचने का काम अलग-अलग स्तरों पर पहुंचा हुआ है.

2. सरकार ने आधिकारिक तौर पर माना कि इंडियन इकोनॉमी दुनिया भर में सबसे बदतर है. ये भी माना कि इसके लिए लॉकडाउन ज़िम्मेदार है. सरकार ने अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, जापान समेत कई देशों की इकोनॉमी में आई गिरावट का भी हवाला दिया, फिर भी माना कि भारत में हालात सबसे ख़राब है. 

3. अप्रैल 2016 से लेकर मार्च 2020 के दौरान भारत की 1662 कंपनियों में चीनी कंपनियों ने निवेश किया. इनमें सबसे ज़्यादा निवेश ऑटोमोबाइल में है. उसके बाद छपाई में, उसके बाद इलेक्ट्रॉनिक्स में. मोदी सरकार ने फ़िलहाल कुछ ऐप्स पर प्रतिबंध लगाकर भक्तों को मसाला दिया कि चीन की कमर टूट चुकी है.

4. देश में इस वक़्त मुनाफ़ा कमाने वाली कुल कंपनियों की तादाद है 3 लाख 63 हज़ार. घाटे में चल रही कंपनियों की संख्या है 3 लाख 80 हज़ार. यानी मुनाफ़ा कमाने वाली कंपनियों के मुक़ाबले घाटे में चल रही कंपनियों की संख्या 17 हज़ार ज़्यादा है.

मीडिया में कभी भी संसद की रिपोर्टिंग ढंग से नहीं होती. सरकार ने इस बार प्रश्नकाल को रद्द कर दिया है. ये सारे सवाल अतारांकित यानी लिखित हैं. संसद के दोनों सदनों की वेबसाइट पर जाकर आप रोज़ाना लिखित सवाल के जवाब ज़रूर पढ़ें.


Post a Comment

0 Comments