रांची में पकड़ी गई 50 लाख रूपये की ड्रग्स, तीन लोग गिरफ्तार


झारखंड की राजधानी रांची में ऐसी दवाओं का जखीरा पकड़ा गया जिनका इस्तेमाल ड्रग्स के रूप में किया जाना था और 25 हजार लोगों को नशे का गुलाम बनाना था। जब्त ड्रग्स की बाजार में कीमत करोड़ों में आंकी गयी है। गहन छानबीन और ड्रग्स के सत्यापन होने के बाद बुधवार देर शाम एफआईआर दर्ज कर ली गई। गिरफ्तार लोगों के विरुद्ध अन्य धाराओं के साथ-साथ NDPS एक्ट की धाराएं लगाई गई हैं। 

पकड़ी गई ड्रग्स से 25 हजार लोगों को डोज देने की तैयारी की गई थी। जब्त दवाइयों में मादक पदार्थ का मिश्रण है इसे गंभीर बीमारी होने पर ही डॉक्टर के सलाह के बाद ही दिया जाता है। यह रेड ड्रग कंट्रोलर ऋतु सहाय के निर्देशन में की गई थी। छापेमारी में गैंग का सरगना अंबुज सिंह अपने दो लोगों के साथ फरार हो गया है। जब्त ड्रग्स बड़ी संख्या में युवाओं को देने की तैयारी की गई थी।  

इस ड्रग्स को अगर दमा के मरीज ने ले लिया तो उसकी मौत भी हो सकती है। पकड़ी गई ड्रग्स टेबलेट, कफ सिरप और सीरिंज के रूप में पकड़ी गई हैं। इसका सेवन करने के बाद किसी भी व्यक्ति की नेगेटिव सोच को खत्म हो जाती है। वह उग्र हो जाता है और कोई भी गलत काम कर सकता है। इसके सेवन के बाद कोई भी व्यक्ति शारीरिक, मानसिक और मनोवैज्ञानिक तौर पर डेड हो जाता है। 

ड्रग इंस्पेक्टर प्रतिभा झा ने बताया कि पकड़ी गई ड्रग्स की एमआरपी 50 लाख के करीब है, लेकिन इसका बाजार मूल्य करोड़ों में है जिसे डॉक्टर की सलाह पर ही गंभीर मरीज़ों को दिया जाता है। पकड़ी गई दवा हिमाचल प्रदेश के सोलन से लाई गई है। छापेमारी में गैंग का सरगना अंबुज सिंह फरार हो गया है। गुमला से तीन लोगों को और रांची से भी तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 

रांची के जिस घर से ड्रग्स बरामद की गई है उसमे शामिल अंबुज सिंह, छोटू सिंह और मंटू सिंह फरार हैं। दरअसल ड्रग्स कंट्रोल विभाग के लोगों ने छापेमारी की तो उनके होश उड़ गए। उस घर में ड्रग्स की इतनी बड़ी खेप पकड़ी गई कि पुलिस और ड्रग्स कंट्रोल विभाग को एफआईआर दर्ज करने की प्रक्रिया में दो दिन लग गए. 

पकड़ी गई ड्रग्स की एमआरपी 50 लाख के करीब है, लेकिन इसका बाजार 20 गुना तक होता है जिससे इसकी कीमत करोड़ों में हो जाती है। ड्रग्स के साथ रांची से भी तीन लोगों को गिरफ्त में लिया गया है। पकड़ी गयी ड्रग्स में अफीम की मात्रा है, जिसे डॉक्टर की सलाह पर ही गंभीर मरीज़ों को दिया जाता है। दरअसल रांची के ग्रामीण एसपी नौशाद आलम ने बताया कि करोड़ों रुपये की ड्रग्स पकड़ी गई है। 


Post a Comment

0 Comments