रोहतक पीजीआई के प्रोफेसर ने की खुदकुशी, पति की मौत के बाद पत्नी ने उठाया खौफनाक कदम


रोहतक। रोहतक की हेल्थ यूनिवर्सिटी में नर्सिंग कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. प्रमोद सहारण ने सल्फास खाकर खुदकुशी कर ली। इसकी सूचना मिलते ही पत्नी मिनाक्षी भी अपने बच्चों को लेकर घर से लापता हो गई। 

काफी समय बाद पता चला कि मिनाक्षी बच्चों सहित सोनीपत रोड पर सेक्टर 2 स्थित जलघर के टैंक में कूद गई है। इसके बाद 11 साल की बड़ी बेटी टैंक से बाहर निकल आई और इसके बाद अपने परिचित के घऱ पहुंची। यहां पर मम्मी और बहन के टैंक में कूदने की पूरी जानकारी दी, जिसके बाद पुलिस को मामले की सूचना दी गई तो ऑपरेशन शुरु किया गया लेकिन मिनाक्षी और छोटी बेटी नहीं मिली। 

डॉ. प्रमोद ने अपने सुसाइड नोट में जान देने की बात लिखने के बाद लिखा कि उनकी बेटी उनका नाम रोशन करेगी। बड़ी बेटी नहर से अपनी जान बचाकर बाहर भी आई। वहीं बताया जा रहा है कि प्रमोद अपने भाई की मौत से दुखी रहने लगे थे। 

जानकारी के मुताबिक राजस्थान के राजगढ़ निवासी 35 वर्षीय डॉ. प्रमोद सहारण की ड्यूटी रोहतक हेल्थ यूनिवर्सिटी में थी। उनकी शादी चरखी दादरी की मिनाक्षी सांगवान के साथ हुई थी। मिनाक्षी काहनौर में लेक्चरर थीं। उनके दो बच्चे भी थे। 

अब बुधवार को वो गुरुग्राम में पेपर देकर वापस लौट रहे थे कि कन्हैली गांव के पास उन्होंने सल्फास खाकर खुदकुशी कर ली। उनकी कार से पांच पाउट सल्फास के बरामद हुए हैं। उनके पास सुसाइड नोट भी मिला है जिसमें लिखा है कि मेरी मौत के लिए सिर्फ भगवान जिम्मेदार है। बहुत दौड़ धूप कर ली लेकिन कुछ सही नहीं हुआ।


Post a Comment

0 Comments