जानिए चीन को लेकर व्हाट्स एप यूनिवर्सिटी ने क्या क्या बताया है?


रवीश कुमार 
प्रोपेगैंडा वॉल चल रहा है। चीन के सोशल मीडिया में भारत को लेकर भूत खड़ा किया जा रहा है। भारत ने ये कर दिया भारत ने वो कर दिया। जबकि भारत ने किया नहीं और क्यों भारत सीमा पर तनाव पैदा करेगा?
शहीद भारत के सैनिक हुए हैं। भारत ने तो संयम का परिचय दिया है। क्या चीन में भारत के बहाने माहौल बनाकर कोई गेम तो नहीं हो रहा? आर्थिक तंगी के इस दौर में वहाँ की जनता को कोई ख़ुराक दी जा रही हो।
दूसरी तरफ़ भारत ने अभी तक इस मामले में एक भी प्रेस कांफ्रेंस नहीं की है। सेना का बयान आता है। कारगिल युद्ध के समय सेना के अधिकारी और विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता एक साथ प्रेस कांफ्रेंस करते थे। चीन का विदेश मंत्रालय आए दिन अनाप-शनाप प्रेस कांफ्रेंस करता रहता है।
वहीं मई जून में भारत ने बीजिंग स्थित बैंक से लोन लिए हैं। हो सकता है प्रस्ताव पहले का हो। हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट है। एक तरफ़ बीजिंग स्थित बैंक से लोन लिए जा रहे हैं दूसरी तरफ़ चीनी एप बंद किए जा रहे हैं। चीनी कंपनियों को भगाने का भूत शांत हो चुका है।
भारत का मीडिया चीन को लेकर ऐसे शांत है जैसे कुछ हो न रहा हो। प्रधानमंत्री कहते हैं कि चीन ने भारत की सीमा में प्रवेश नहीं किया है। क्या उन्होंने यह बयान देकर कोई गलती कर दी? दो देशों के बीच जंग के हालात की वास्तविकता पर पर्दा है। अच्छा है कि जंग न हो।

Post a Comment

0 Comments