स्कूल संचालक ने लेडीज टॉयलेट में लगवाए कैमरे और करने लगा टीचर्स को ब्लैकमेल


मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में एक स्कूल संचालक पर स्कूल के लेडीज टॉयलेट में सीसीटीवी कैमरा लगवाने के आरोप लगे हैं। आरोप यह भी हैं स्कूल संचालक लेडीज टीचरों से अश्लील बातें  करता था और उनके फोटो दिखाकर उनको ब्लैक मेल करता था। 

इसी के विरोध में थाने पहुंची अधिकांश महिला टीचरों ने एकत्र होकर हंगामा किया और थाने में स्कूल संचालक के खिलाफ तहरीर दे दी। एसओ ने जांच करने के बाद कार्रवाई की बात की है। आरोप है कि स्कूल संचालक और उनका बेटा सट्टेबाजी का शौक रखते हैं। मामला वेस्ट एंड रोड पर स्थित ऋषभ एकेडमी का है। 

यहां महिला टीचरों का आरोप है कि प्रबंधक रंजीत जैन और उसका बेटा अभिनव जैन महिला टीचरों के साथ अभद्र व्यवहार और अश्लील टिप्पणी करते हैं। महिला टीचरों की शिकायत पर पुलिस ने IPC की धारा 354(क) 354(ग) 506 के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

स्कूल संचालक पर स्कूल की महिला टीचरों ने आरोप लगाए हैं कि इन्होंने विरोध के बावजूद भी महिला टॉयलेट में कैमरे लगवा दिए। थाने पहुंची स्कूल की कई शिक्षकों ने स्कूल संचालक पर उत्पीड़न का आरोप लगाया। टीचर्स का आरोप है कि स्कूल संचालकों ने विरोध के बावजूद स्कूल के सभी टॉयलेट में सीसीटीवी कैमरे लगवाए हैं।

अपने कमरे में बैठकर स्कूल संचालक टॉयलेट जानी वाली महिला शिक्षकों की अश्लील फोटो खीचता है। इसके बाद उन फोटो वायरल करने की धमकी देकर खुद के साथ संबंध बनाने का दबाव बनाता है। महिला टीचरों ने आरोपी पर तंत्र मंच के जरिए भी खुद को परेशान करने का आरोप लगाया है। महिला टीचरों का ये आरोप भी है कि प्रबंधक उनका वेतन नहीं दे रहा है और ब्लैंक पेपर पर साइन करवाता है।  प्रबंधक पर एक महिला टीचर के साथ दुष्कर्म करने का मुकदमा भी चल रहा है।

इस मामले में थाना प्रभारी विजय कुमार गुप्ता ने बताया कि टीचरों ने तहरीर दी है। जांच के बाद आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इस बारे में स्कूल संचालक से बात करने का प्रयास किया गया लेकिन उनका फोन नहीं उठा। मामले पर बोलते हुए एसओ सदर बाजार विजय गुप्ता ने बताया कि रंजीत जैन और उनके बेटे अभिनव जैन के खिलाफ छेड़छाड़ और धमकी देने के मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है। एएसपी कैंट ईरज राजा और सदर थाने की पुलिस ऋषभ एकेडमी में जांच करने के लिए पहुंची।

ऋषभ एकेडमी मामले में व्यापारिक संगठन भी शिक्षिकाओं के पक्ष में आ गए हैं। मेरठ व्यापार मंडल के जिला प्रमुख शैंकी वर्मा ने बताया कि इस मामले को लेकर वे आज जिलाधिकारी से मिलेंगे। शिक्षिकाओं के आरोप बेहद गंभीर है मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और ऋषभ एकेडमी की मान्यता रद्द होनी चाहिए। 


Post a Comment

0 Comments