निजीकरण के विरोध में BPCL के 4,800 कर्मचारियों की 48 घंटे की हड़ताल


गिरीश मालवीय 
निजीकरण के विरोध में BPCL के कर्मचारियों की 15 यूनियनों से जुड़े करीब 4,800 कर्मचारियों ने 48 घंटे की हड़ताल का आयोजन किया है। कंपनी के ये कर्मचारी मुंबई और कोच्चि स्थित रिफाइनरियों से जुड़े हैं, जो सोमवार और मंगलवार को हड़ताल पर चले गए........
सरकार कहती है कि इनकी नौकरी सुरक्षित है लेकिन इन कर्मचारियों का कहना है कि सरकार ने जून 2020 के बाद कंपनी मैनेजमेंट को 10 साल के कॉन्ट्रैक्ट सेवा की समीक्षा करने का अधिकार दिया है। इसकी मदद से जो भी प्राइवेट मैनेजमेंट कंपनी को अपने अधिकार में लेगा, वह श्रमिकों के सेवा की शर्तों में संशोधन करेगा।
उन्होंने कहा कि उन्हें यह भी डर है कि अगर कंपनी प्राइवेट हाथों में जाती है तो उन्हें सेवानिवृत्ति लाभ और ग्रेच्युटी भी नहीं मिलेंगे।.....इनकी चिंता वाजिब है .......हम ऐसा होते देख भी चुके हैं BPCL फायदे में चल रही कम्पनी है और उसके कर्मचारी एफिशिएंट भी माने जाते हैं.......
टीवी मीडिया जो कँगना के ऑफिस के अवैध निर्माण तोड़ने को इतना बढ़ा चढ़ा कर दिखाता है वह इनकी हड़ताल को कवर क्यो नही करता.......

Post a Comment

0 Comments