तदर्थ शिक्षकों ने सेवा संबंधी सुरक्षा के लिए मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन।। Raebareli news ।।

  


तदर्थ शिक्षकों की समस्या और उसके समाधान के लिए राजा राकेश प्रताप सिंह प्रदेश सरकार के मुखिया तक पहुंचाएंगे उनकी बात

शिवाकांत अवस्थी

महराजगंज/रायबरेली: उत्तर प्रदेश के अशासकीय सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में 18 से 20 वर्षों से तदर्थ रूप में नियुक्त शिक्षकों के प्रतिनिधि मंडल ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को प्रेषित ज्ञापन में सेवा सुरक्षा की गुहार लगाई है। शिक्षकों के एक प्रतिनिधिमंडल ने यहां भाजपा राष्ट्रीय परिषद सदस्य और पूर्व एमएलसी राजा राकेश प्रताप सिंह को ज्ञापन की प्रति भेंट करते हुए उनसे अनुरोध किया है कि, उनकी बात प्रदेश के मुख्यमंत्री को पहुंचाई जाए।


    आपको बता दें कि, अपने ज्ञापन में तदर्थ शिक्षकों के प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई कर रहे रविंद्र सिंह, राकेश कुमार, सुशील कुमार शुक्ला, हरि ओम वर्मा सहित दर्जनों शिक्षकों ने मुख्यमंत्री को प्रेषित ज्ञापन में बताया कि, माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा पारित आदेश दिनांक 26 -8- 2020 रिट याचिका संख्या 830/ 2016 संजय सिंह बनाम उत्तर प्रदेश सरकार व अन्य कहा गया है कि, कार्यरत तदर्थ शिक्षकों को  बिनियमित करने से पहले उनकी पुनः परीक्षा ली जाए। इससे प्रदेशभर में तैनात 2,000 से अधिक तदर्थ शिक्षकों के सामने सेवा सुरक्षा संबंधी संकट पैदा हो गया है। जिसमें कहा गया है कि, तदर्थ शिक्षकों के बिनियमतीकरण करने के लिए उन्हें परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी। प्रतिनिधि मंडल ने पूर्व एमएलसी को अवगत कराया कि, इससे पहले प्रदेश सरकारों द्वारा समय-समय पर तदर्थ शिक्षकों का बगैर किसी परीक्षा के बिनितीकरण  किया गया है। ऐसे में अब जबकि वह लोग 20-20 साल से शिक्षण कार्य में अपना योगदान देते आए हैं, और लगातार उन्हें राजकीय कोष से वेतन मिल रहा है, अब इस उम्र में परीक्षा पास करना में उचित नहीं दिखता।


     शिक्षकों का कहना है कि, अगर जो शिक्षक परीक्षा पास नहीं कर पाए, तो उन्हें सेवा से पृथक कर दिया जाएगा ऐसी हालत में उम्र के इस पड़ाव पर वह लोग दूसरा काम भी नहीं कर सकते, जबकि उनके समक्ष पारिवारिक जिम्मेदारियां और बुढ़ापे में आने वाली समस्याएं सामने होंगी। क्योंकि इस उम्र में नौकरी जाने का मतलब है कि, उन्हें कहीं और रोजगार भी नहीं मिलेगा। शिक्षकों ने पूर्व एमएलसी राजा राकेश प्रताप सिंह से मिलकर मुख्यमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन देते हुए, उनसे आग्रह किया है कि, तदर्थ शिक्षकों की समस्या और उसके समाधान के लिए प्रदेश सरकार के मुखिया तक उनकी बात पहुंचाई जाए। पूर्व एमएलसी श्री सिंह ने तदर्थ शिक्षकों को आश्वस्त किया है कि, वह उनकी बात प्रदेश सरकार के मुखिया तक पहुंचाने का प्रयास करेंगे।


Post a Comment

0 Comments